+

भारत में दो महीने में पहली बार कोरोना के एक्टिव केस सात लाख के नीचे, रिकवरी रेट 89.53 प्रतिशत

मंत्रालय ने रेखांकित किया, ‘‘ कोविड-19 मरीजों के रोजाना ठीक होने की उच्च दर होने और मृत्युदर में तेज गिरावट की वजह से भारत में उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटने का सिलसिला जारी है।’’
भारत में दो महीने में पहली बार कोरोना के एक्टिव केस सात लाख के नीचे, रिकवरी रेट 89.53 प्रतिशत
कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में भारत को एक बड़ी उपलब्धि हासिल होने का जिक्र करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि गत दो महीनों में पहली बार देश में कोरोना वायरस से संक्रमित उपचाराधीन मरीजों की संख्या सात लाख से कम हुई है। वहीं ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 69 लाख के पार हो गई है।
मंत्रालय ने कहा कि अब भारत में उपचाराधीन मरीजों के मुकाबले ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 10 गुना अधिक है। मंत्रालय ने बताया कि दो महीनों (63 दिनों) में पहली बार भारत में उपचाराधीन मरीजों की संख्या सात लाख से कम है। इससे पहले 22 अगस्त को इलाजरत मरीजों की संख्या 6,97,330 थी। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को सुबह आठ बजे अद्यतन किए गए आंकड़ों के मुताबिक, इस समय देश में 6,95,509 उपचाराधीन मरीज हैं जो देश में अबतक संक्रमित पाए गए कुल मरीजों की संख्या का करीब 8.96 प्रतिशत हैं।
मंत्रालय ने रेखांकित किया, ‘‘ कोविड-19 मरीजों के रोजाना ठीक होने की उच्च दर होने और मृत्युदर में तेज गिरावट की वजह से भारत में उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटने का सिलसिला जारी है।’’ देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 69,48,497 हो गई है जो उपचाराधीन मरीजों के मुकाबले 62,52,988 अधिक है।
आंकड़ों के मुताबिक, गत 24 घंटे में देश में 73,979 कोविड-19 मरीज ठीक हुए जबकि इसी अवधि में संक्रमण के 54,366 नये मामलों की पुष्टि हुई। देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के ठीक होने की दर में और सुधार हुआ है और यह अब 89.53 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गयी है।
मंत्रालय ने कहा कि देश में चिकित्सा अवसंरचना में विस्तार, केंद्र द्वारा इलाज के लिए जारी मानक उपचार नियमावली का राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा अनुपालन, डॉक्टरों और बीमारी के खिलाफ अग्रिम मोर्चे पर लड़ रहे स्वास्थ्य कर्मियों की प्रतिबद्धता से कोविड-19 मरीजों के ठीक होने की दर बढ़ी है और मृत्युदर में गिरावट आई है। मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 मरीजों की मृत्युदर गिरकर आज 1.51 प्रतिशत पर आ गई है।
मंत्रालय ने रेखांकित किया , ‘‘इन दोनों का नतीजा है कि उपचाराधीन मरीजों की संख्या में लगातार कमी आ रही है।’’ आंकड़ों के मुताबिक, देश के 24 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश ऐसे हैं जहां पर उपचाराधीन मरीजों की संख्या 20 हजार से कम हैं। मंत्रालय ने बताया कि कोविड-19 से ठीक होने वाले 81 प्रतिशत मरीज 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश के हैं। ये राज्य और केंद्र शासित प्रदेश महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, दिल्ली, राजस्थान और उत्तर प्रदेश हैं।
आंकड़ों के मुताबिक, एक दिन में सबसे अधिक 16 हजार से अधिक मरीज महाराष्ट्र में ठीक हुए हैं जबकि कर्नाटक संक्रमण मुक्त होने वाले 13 हजार से अधिक मरीजों के साथ दूसरे स्थान पर है। मंत्रालय ने बताया कि गत 24 घंटे में सामने आए 54,366 नये मामलों में 78 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और ओडिशा से हैं। महाराष्ट्र और केरल में सबसे अधिक 7,000 से अधिक नये मामले सामने आए हैं जबकि कर्नाटक में 5,000 से अधिक नये मामले दर्ज किए गए हैं। 
मंत्रालय ने बताया कि गत 24 घंटे में कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से 690 लोगों की मौत हुई जिनमें से 81 प्रतिशत मौतें 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सीमित हैं। ये राज्य हैं महाराष्ट्र, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, केरल, आंध्र प्रदेश और ओडिशा। मंत्रालय ने बताया कि महाराष्ट्र में एक दिन में सबसे अधिक 198 लोगों की मौत दर्ज की गई है।

कोरोना वायरस जांच का आंकड़ा 10 करोड़ के पार, डॉ हर्षवर्धन ने दिया ये बड़ा बयान


facebook twitter instagram