+

पूर्व IPS अधिकारी असीम अरुण हुए BJP में शामिल, दिया पहला बयान, CM योगी के कार्यकाल से संतुष्ट...

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले आईपीएस से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लेने वाले वरिष्ठ अधिकारी असीम अरुण ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण कर ली है।
पूर्व IPS अधिकारी असीम अरुण हुए BJP में शामिल, दिया पहला बयान, CM योगी के कार्यकाल से संतुष्ट...
उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लेने वाले वरिष्ठ अधिकारी असीम अरुण ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण कर ली है। बता दें कि दलित समुदाय से आने वाले अरुण को भाजपा उनके गृह जनपद कन्नौज से चुनाव मैदान में उतार सकती है। अरुण ने हाल ही में पुलिस सेवा से वीआरएस लिया था। वह कानपुर के पुलिस आयुक्त थे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर की मौजूदगी में अरुण को पार्टी की सदस्यता दिलायी। 
स्वतंत्र देव सिंह और अनुराग ठाकुर की मौजूदगी में हुए शामिल 
इस मौके पर स्वतंत्र सिंह ने कहा कि अरुण जैसे ईमानदार और कर्मठ अधिकारी के भाजपा में आने से पार्टी कार्यकर्ताओं को सकारात्मक ऊर्जा मिलेगी। अनुराग ठाकुर ने अरुण का भाजपा में स्वागत करते हुये कहा कि पार्टी में उनके शामिल होने से देश भर में युवाओं को जोड़ने के अभियान को गति मिलेगी। ठाकुर ने समाजवादी पार्टी (सपा) को दंगाईयों की पार्टी बताते हुये कहा कि सपा के समाजवाद का असली खेल है उनके उम्मीदवार या तो जेल में हैं या बेल पर हैं।
अनुराग ठाकुर ने SP पर दागी नेताओं को टिकट देने का लगाया आरोप  
अनुराग ठाकुर ने गैंगस्टर एक्ट में शनिवार को गिरफ्तार किये गये कैराना से सपा प्रत्याशी नाहिद हसन और जमानत पर रिहा हुए आजम अब्दुल्ला का उदाहरण देते हुए कहा कि सपा के उम्मीदवारों की सूची में शामिल पहला प्रत्याशी (हसन) जेल में है तथा एक और संभावित प्रत्याशी अब्दुल्ला ‘बेल’ पर है। उन्होंने कहा कि सपा में दंगा फैलाने वाले शामिल होते हैं और भाजपा में दंगाईयों को जेल भेजने वाले शामिल होते हैं। भाजपा और सपा में यही फर्क है।
पूर्व IPS अधिकारी ने साझा किया योगी राज का अनुभव 
इस दौरान अरुण ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्माई व्यक्तित्व और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कुशल प्रशासक वाली साफ छवि से प्रभावित होकर भाजपा में आये हैं। उन्होंने कहा कि मैं पार्टी के विचारों से जुड़कर आ रहा हूं, योगी राज में एक भी गुंडे को छुड़वाने के लिए मेरे पास भाजपा कार्यालय से फोन नहीं आया।मैं प्रसन्न हूं, संतुष्ट हूं। उल्लेखनीय है कि अरुण का वीआरएस आवेदन हाल ही में सरकार द्वारा स्वीकार किए जाने के बाद 15 जनवरी को ही वह सेवामुक्त हुए हैं।

टीकाकरण अभियान के एक वर्ष पूरा होने पर योगी बोले- यह सफलता ‘आत्मनिर्भर भारत’ के सामर्थ्य को दर्शाती है

facebook twitter instagram