GOAIR के कर्मचारी ने की आत्महत्या

नागपुर में निजी उड़ान सेवा गो-एयर के दो कर्मचारियों के खिलाफ 19 वर्षीय साथी कर्मचारी को आत्महत्या के लिए कथित तौर पर मजबूर का मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने यह जानकारी दी है। पुलिस के मुताबिक नागपुर हवाई अड्डे पर गो-एयर के ट्रेनी रैम्प ऑफिसर के रूप में तैनात मंथन चव्हाण ने 30 मई को नागपुर में अपने घर में कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी। 

अजनी पुलिस ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि गो-एयर के प्रबंधक (नागपुर) अक्षय पाटिल और रैम्प ऑपरेशनों के वरिष्ठ अधिकारी निलय जनबंधु के खिलाफ बृहस्पतिवार को भारतीय दंड संहिता की धारा 306 और धारा 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने कहा कि जांच के दौरान सामने आया कि घटना के समय मंथन चव्हाण बीमार थे। इस दौरान अक्षय पाटिल और निलय जनबंधु उन्हें लगातार फोन कर और संदेश भेजकर ड्यूटी पर लौटने के लिये कह रहे थे। इससे मानसिक दबाव में आए मंथन ने आत्महत्या कर ली। 

जम्मू कश्मीर : शोपियां के बाद आतंकियों के गढ़ अनंतनाग पहुंचे अजीत डोभाल, स्थानीय लोगों से की मुलाकात

पुलिस के अनुसार, चव्हाण ने चंद्रमणि नगर में अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस के मुताबिक मंथन के पिता महेन्द्र चव्हाण ने बाद में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें कहा गया था कि मंथन की तबीयत ठीक नहीं थी और वह पीलिया से जूझ रहा था। वह घटना से 10-12 दिन पहले से छुट्टी पर था। 

उन्होंने शिकायत में आरोप लगाया था कि संभवत: काम के दबाव में उसने गंभीर कदम उठाया। पुलिस ने इस शिकायत के आधार पर मामले की जांच शुरू की। इस बीच गो-एयर ने कहा कि पुलिस ने 'गलत तरीके से' उसके कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। एयरलाइंस ने यह भी कहा कि उसकी कानूनी टीम तथ्यों का पता लगा रही है, जिसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। मंथन नौ महीने से गो-एयर के साथ काम कर रहे थे। 
Download our app
×