गूगल ने पंजाब सरकार की शिकायत पर अलगाववाद को बढ़ावा देने वाली एप हटाई

गूगल ने पंजाब सरकार की शिकायत के बाद अपने प्ले स्टोर से भारत विरोधी मोबाइल एप ‘2020 सिख रेफरेंडम’ हटा दी है। 

पंजाब सरकार के एक प्रवक्ता ने मंगलवार को यहां बताया कि यह एप अब भारत में मोबाइल फोन उपभोक्ताओं के लिए गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं है। 

विदेश स्थित एक समूह और भारत द्वारा प्रतिबंधित ‘‘सिख्स फॉर जस्टिस’’ अपने ‘‘2020 सिख रेफरेंडम’ अभियान के जरिए पंजाब के अलगाव की कवायद में लगा है। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस अभियान में पाकिस्तान की खुफिया सेवा के शामिल होने का आरोप लगाया। 

इस महीने की शुरुआत में उन्होंने राज्य सरकार के अधिकारियों से गूगल से संपर्क करने और साथ ही केंद्र सरकार की एजेंसियों के साथ समन्वय करने के लिए कहा था ताकि नयी एप को हटाया जा सकें। 

गूगल को आठ नवंबर को सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धारा 79(3)बी के तहत एक नोटिस भेजकर ‘आइसटेक’ द्वारा बनाई एप को हटाने की मांग की गई। 

एप में मोबाइल उपभोक्ताओं को अलगाववाद के लिए समर्थन दिखाने के वास्ते पंजीकरण कराने के लिए कहा जाता है। सरकार ने एक बयान में कहा कि वेबसाइट ‘‘येस2खालिस्तान’’ भी इसी उद्देश्य के लिए शुरू की गई । 

राज्य सरकार ने कहा कि गूगल इंडिया इस बात से आश्वस्त हुआ कि उसके प्लेटफॉर्म का ‘‘गैरकानूनी और राष्ट्र विरोधी गतिविधियों’’ को अंजाम देने के लिए प्रतिबंधित संगठनों द्वारा दुरुपयोग किया गया। 
Tags : 2020 सिख रेफरेंडम,गूगल,पंजाब सरकार,2020 Sikh Referendum,Google,Government of Punjab,TOP News ,Google,government,Punjab,Sikh Referendum,Play Store