+

ज्ञानवापी : सावन में पूजा करने की मांगी अनुमति, याचिका दाखिल

वाराणसी जिला अदालत में विचाराधीन ज्ञानवापी मामले में आज एक ओर याचिका दाखिल की गई हैं, जिसमें सावन के महीने में वहां भगवान शिव की आराधना करने की अनुमति मांगी गई हैं।
ज्ञानवापी : सावन में पूजा करने की मांगी अनुमति, याचिका दाखिल
वाराणसी जिला अदालत में विचाराधीन ज्ञानवापी मामले में आज एक ओर याचिका दाखिल की गई हैं, जिसमें कि सावन के महीने में वहां भगवान शिव की आराधना करने की अनुमति दी जाए। बता दें कि ज्ञानवापी का मामला पहले जब सुप्रीम कोर्ट में गया था को कोर्ट ने इसे जिला जज को ट्रांसफर कर दिया था। 
पिछली बार की सुनवाई क्या बोला था सुप्रीमकोर्ट 
सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अंतरिम आदेश के तहत कथित शिवलिंग वाले क्षेत्र की सुरक्षा जारी रहेगी। कोर्ट ने कहा था कि सिविल कोर्ट की बजाय मामले की सुनवाई जिला अदालत में जिला जज द्वारा होनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालत को 8 हफ्ते का समय दिया था।  84 कार्यदिवसों के भीतर सुनवाई पूरी करके  जिला अदालत को फैसला सुनाना है और इसकी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को देनी है। ऐसे में इस मामले में रोज सुनवाई के आदेश दिए गए हैं। 
श्रीकृष्ण जन्मभूमि के अध्यक्ष ने दाखिल की याचिका 
याचिकाकर्ता ने अर्जी में कहा की सावन के उपलक्ष्य में हिंदूओं को शिवलिंग की पूजा का अधिकार मिलना चाहिए।  उन्होनें संविधान की अनुच्छेद 25 का हवाला देते हुए कहा की हिंदुओं को पूजा करने व धार्मिक अनुष्ठान करने का अधिकार हैं।  इसलिए हमें शिवलिंग की पूजा का अधिकार का मिलना चाहिए।  
आपको बता दे कि ज्ञानवापी केस में वाराणसी जिला अदालत में सुनवाई चल रही है। लेकिन हिंदु पक्ष सावन के मद्देनजर पूजा करने का अधिकार मांग रहा है।  कोर्ट ने अभी तक इस मामले कोई वैचारिक टिप्पणी नही हैं, सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल करने वाले राजेश मणि त्रिपाठी संविधान के दायरे में रहकर पूजा व धार्मिक अनुष्ठान करने की अनुमति मांग रहे हैं।  

 

facebook twitter instagram