+

17 जुलाई से अमेरिका और 18 जुलाई से फ्रांस के बीच भारत शुरू करेगा उड़ान सेवा : हरदीप सिंह पुरी

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार बताया कि अमेरिकी विमान सेवा कंपनी डेल्टा एयरलाइंस 17 जुलाई से 31 जुलाई के बीच दिल्ली से नेवार्क और सैनफ्रांसिस्को के लिए उड़ानों का परिचालन करेगी।
17 जुलाई से अमेरिका और 18 जुलाई से फ्रांस के बीच भारत शुरू करेगा उड़ान सेवा : हरदीप सिंह पुरी
केंद्र सरकार ने कोरोना संकट के चलते बंद पड़ी अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाओं को पुनः शुरू करने का फैसला किया है। जिसमें अमेरिका के लिए 17 जुलाई से और फ्रांस के लिए 18 जुलाई से सेवाएं शुरू हो रही हैं। वहीं जर्मनी की विमान सेवा कंपनी लुफ्थांसा के साथ भी बातचीत अग्रिम चरण में है।
नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार बताया कि अमेरिकी विमान सेवा कंपनी डेल्टा एयरलाइंस 17 जुलाई से 31 जुलाई के बीच दिल्ली से नेवार्क और सैनफ्रांसिस्को के लिए उड़ानों का परिचालन करेगी। नेवार्क के लिए दैनिक उड़ानें होंगी जबकि सैनफ्रांसिस्को के लिए सप्ताह में तीन उड़ानें होंगी।
इसी प्रकार एयर फ्रांस के साथ पेरिस से दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु की उड़ानों के लिए समझौता हुआ है। एयरलाइन इन भारतीय शहरों से पेरिस के लिए 18 जुलाई से एक अगस्त के बीच 28 उड़नों का परिचालन करेगी। जर्मनी की विमान सेवा कंपनी लुफ्थांसा के साथ भी बातचीत अग्रिम चरण में है।
उन्होंने कहा कि भारत की ओर से सरकारी विमान सेवा कंपनी एयर इंडिया के विमान एयर बबल के तहत उड़न भरेंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले समय में निजी एयरलाइंस भी इसमें रुचि दिखाएंगी। हरदीप सिंह पुरी ने स्पष्ट किया कि ये नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें नहीं होंगी और फिलहाल नियमित उड़ानें शुरू होने की संभावना नहीं है।
 उन्होंने कहा, ‘‘मेरा अनुमान है कि कुछ समय तक 'एयर बबल' के तहत ही अंतरराष्ट्रीय उड़नों का परिचालन होगा जिसकी जगह बाद में नियमित सेवा लेगी। नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें कब तक शुरू होंगी मुझे नहीं मालूम।’’
नागरिक उड्डयन सचिव प्रदीप सिंह खरोला ने बताया कि नियमों और स्वास्थ्य प्रक्रियाओं के बुलबुले की सीमा में ही फिलहाल अंतरराष्ट्रीय उड़नें शुरू की जा रही हैं, इसलिए इसी एयर बबल नाम दिया गया है। इसमें तीन जरूरी बातें हैं। दोनों देशों के बीच यात्रा के लिए मांग हो, दोनों देशों के नियम एक-दूसरे के यात्रियों की आवाजाही की अनुमति देते हों और विमान सेवा कंपनियां उड़ानों के लिए तैयार हों।

facebook twitter