पांच सफल IITians जो बाद में बने राजनेता,जाने इनके बारे में

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान देश के प्रमुख इंजीनियरिंग संस्थान है। आईआईटी को किसी परिचय की जरूरत नहीं है।  आईआईटी देश के ज्यादातर इंजीनियरिंग लोगों के लिए एक सपना है। हालांकि कई सारे आईआईटीयन हैं जिन्होंने अपनी फील्ड चेंज कर राजनीति में शामिल हो गए और देश की सेवा करने का विकल्प चुना। तो आइए आज हम आपको बताने वाले हैं कुछ ऐसे ही प्रसिद्घ आईआईटीयन के बारे में जो अब सफल राजनेता बन गए।

1.मनोहर पर्रिकर

चार बार गोवा के सीएम रह चुके और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर आईआईटी-बॉम्बे के पूर्व छात्र रह चुके हैं। जहां उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग साल 1978 में पूरी की थी। वैसा देखा जाए तो भाजपा नेता मनोहर पर्रिकर पहले आईआईटी के पूर्व छात्र थे जो राज्य के विधायक बने और उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में काम भी किया। बता दें कि लंबी बीमारी से जूझने के बाद 17 माई 2019 को 63 साल की आयु में उनका निधन हो गया।

2.जयराम रमेश

कांग्रेस के दिग्गज वरिष्ठ नेता जयराम रमेश भी एक आईआईटीयन हैं। जिन्होंने बाद में अपना कैरियर राजनीति में बनाया है। वह इस समय कर्नाटक का प्रतिनिधित्व करने वाले राज्य सभा के सदस्य हैं। जयराम भी आईआईटी बॉम्बे के पूर्व छात्र हैं जिन्होंने इस संस्थान में मैकेनिकल इंजीनियरिंग किया है। बता दें कि ये 1998 में कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे। इन्होंने यूपीए शासन के दौरान केंद्रीय मंत्री के रूप में भी काम किया है।

3.अजीत सिंह

राष्ट्रीय लोकदल के संस्थापक अजीत सिंह जो एक आईआईटीयन हैं। जिन्होंने आईआईटी खडग़पुर से कंप्यूटर साइंस अपनी ग्रेजुएशन पूरी की है। बता दें कि अजीत सिंह पूर्व पीएम चरण सिंह के बेटे हैं। वह लोकदल और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष थे जिन्होंने बहुत बार केंद्रीय मंत्री के रूप में काम किया है। अजीत सिंह ने 1996 में राष्ट्रीय लोकदल की स्थापना की है। साल 2011 में ये यूपीएल में शामिल हुए जिसके बाद ये साल 2011-14 तक नागरिक उड्डयन मंत्री रहे हैं।

4.अरविंद केजरीवाल

बता दें कि आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी एक आईआईटीयन हैं। जिन्होंने आईआईटी खडग़पुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग किया है। अरविंद केजरीवाल पूर्व सिविल सेवक भी हैं जिन्होंने राजनीति में आने से पहले एक भारतीय राजस्व सेवा अधिकारी के रूप में कार्य किया है। साल 2012 में केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की स्थापना की है। अरविंद केजरीवाल दिल्ली के दूसरे सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं।

5.जयंत सिंहा

भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री जयंत सिंहा काफी अनुभवी राजनीतिज्ञ यशवंत सिंहा के बेटे हैं। जो एक आईआईटीयन हैं। जयंत सिंह वर्तमान समय में मोदी सरकार में नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री हैं। इन्होंने साल 2014-16 के बीच वित्त राज्य मंत्री के रूप में भी कार्य किया है।

अगर आप भी नहीं हैं अपने रिजल्ट से खुश, तो इस IAS अधिकारी की मार्कशीट देख लें

Download our app