+

अगर आपके साथ भी है कुछ ऐसा की दो सीढ़ियां चढ़कर हांफने लगते हैं तो जरूर करें यह काम

अक्सर हम सभी के साथ ऐसा होता है जब दो फ्लोर तक सीढ़ियों से जाने के बाद ही हमारे दिल की धड़कनें एक दम से तेज हो जाती हैं
अगर आपके साथ भी है कुछ ऐसा की दो सीढ़ियां चढ़कर हांफने लगते हैं तो जरूर करें यह काम
अक्सर हम सभी के साथ ऐसा होता है जब दो  फ्लोर तक सीढ़ियों से जाने के बाद ही हमारे दिल की धड़कनें एक दम से तेज हो जाती हैं और ऐसे में हमारी सांस फूलने लगती है। ऐसी दिक्कत न केवल महिलाओं में बल्कि पुरुष में होती है,मगर महिलाओं में परेशानी ज्यादा देखी जाती है।

 
क्यों हांफने लगते हैं सीढ़ियां चढ़ने पर?

सीढ़ियां चढ़ते समय थकान होना कोई बड़ी बात नहीं है,यदि आपको तीसरे या चौथे फ्लोर पर जाना है  तो इस तरह की समस्या का अनुभव हो। परन्तु यह भी बहुत ही सीमित मात्रा में होना चाहिए। क्योंकि चौथे फ्लोर तक जाना या पांचवे फ्लोर तक जाना और बहुत अधिक थकान महसूस होना एक स्वस्थ शरीर की निशानी है।


अगर बात फिटनेस की करें तब भी सीढ़ियां चढ़ने और उतरने से हमारी बॉडी से कैलरी खर्च होती है साथ ही फैट भी पिघलता है। इस वजह से हमें ज्यादा ऊर्जा लगानी पड़ती है और हमें थकान ज्यादा होती है,मगर ऐसे में यदि सिर्फ दो फ्लोर चढ़कर ही आपको थकान ही जाती है तो यह कुछ अच्छे संकेत नहीं हैं। यह आपके शरीर में छिपी कमजोरी को दिखाती है।


सांस लेने में तकलीफ 

ज्यादा मेहनत का काम करने के बाद सांस फूलना सामान्य घटना है,मगर दो फ्लोर चढ़कर ही आपको सांस लेने में परेशानी होने लगती है तो इसका मतलब आपका हृदय पूरी तरह स्वस्थ नहीं है। इसलिए अपने कमजोर होते हृदय को बीमार होने से बचाव करें और अपनी सेहत का ध्यान रखें।


बता दें यह सब कुछ होना शरीर में चुपके से पनप रही बीमारियों का प्रारंभिक संकेत हो सकती है और कई बार यह समस्या इसीलिए भी होती है कि हम बहुत बार लेजी लाइफस्टाइल जी रहे होते हैं। इस कारण भी दो सीढ़ियां चढ़ते ही सांस फूलने की दिक्कत होती है।


वहीं कुछ लोगों को सीढ़ियां चढ़ने के बाद सिर भारी होना, सिर घूमना या आंखों के आगे धुंध आना जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है ऐसे में आपके साथ भी इस तरह की दिक्कत हो रही है तो आपको फौरन डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए,क्योंकि यह स्थिति शरीर में किसी गंभीर बीमारी की और भी इशारा करती है।
facebook twitter