+

रोमांचक जंग के लिये तैयार हैं भारत-आस्ट्रेलिया

आस्ट्रेलिया ने पहले मैच में एकतरफा जीत दर्ज की उससे एकबारगी लगने लगा था कि वह वह भारत में लगातार दूसरी सीरीज जीतने में कामयाब रहेगा।
रोमांचक जंग के लिये तैयार हैं भारत-आस्ट्रेलिया
बेंगलुरू : विश्व की दो दिग्गज टीमों भारत और आस्ट्रेलिया के बीच रविवार को यहां होने वाले तीसरे और निर्णायक एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में रोमांचक मुकाबला होने की संभावना है जिसमें दोनों टीमें सीरीज पर कब्जा जमाकर एक दूसरे पर बादशाहत कायम करने की कोशिश करेंगी। इस सीरीज के शुरू से ही रोमांचक होने की संभावना थी लेकिन जिस तरह से आस्ट्रेलिया ने पहले मैच में एकतरफा जीत दर्ज की उससे एकबारगी लगने लगा था कि वह वह भारत में लगातार दूसरी सीरीज जीतने में कामयाब रहेगा। 

भारत ने हालांकि राजकोट में हर विभाग में बेहतरीन प्रदर्शन करके शानदार वापसी की और साबित कर दिया कि मुंबई में दस विकेट से हार के बाद हायतौबा मचाना जल्दबाजी थी। सबसे महत्वपूर्ण बात रही कि भारत दूसरे वनडे में अपने बल्लेबाजी संयोजन को ढर्रे पर ले आया तथा केएल राहुल ने भी पांचवें नंबर पर मिले मौके का पूरा फायदा उठाया। रोहित शर्मा और शिखर धवन ने पारी का आगाज किया जबकि कप्तान विराट कोहली अपने पसंदीदा तीसरे नंबर पर उतरे और श्रेयस अय्यर चौथे नंबर पर आये। रविवार को भी यही बल्लेबाजी क्रम बरकरार रहने की संभावना है। 

रोहित शुक्रवार को क्षेत्ररक्षण करते समय चोटिल हो गये थे लेकिन कोहली को विश्वास है कि यह स्टार सलामी बल्लेबाज चिन्नास्वामी स्टेडियम में होने वाले निर्णायक मुकाबले के लिये उपलब्ध रहेगा। चोटिल ऋषभ पंत की जगह मनीष पांडे को खेलने का मौका मिला और यह देखना होगा कि बायें हाथ का यह विकेटकीपर बल्लेबाज मैच के लिये फिट हो पाएगा या नहीं। राजकोट में भारत के लिये सबसे महत्वपूर्ण राहुल की पारी रही जो उन्होंने नंबर पांच पर खेली। इससे नयी संभावनाएं पैदा हो गयी जिससे टीम संतुलन को सुधारने में मदद मिल सकती है। 

विशेषज्ञ सलामी बल्लेबाज राहुल ने 150 से अधिक स्ट्राइक रेट से रन बनाये। वह पिछले मैच में नंबर तीन पर खेले थे। कोहली ने तो इसे राहुल की सर्वश्रेष्ठ पारी तक करार दे दिया था। पंत की अनुपस्थिति में उन्होंने विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी भी संभाली और आरोन फिंच को बड़ी चपलता से स्टंप आउट करने के अलावा दो कैच भी लिये। गेंदबाजी में किसी तरह के बदलाव की संभावना नहीं है और टीम तीन तेज गेंदबाजों और दो स्पिनरों के साथ ही उतर सकती है। कुलदीप यादव पिछले साल अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाये थे लेकिन पिछले मैच में उन्होंने एक ओवर में अलेक्स कैरी और स्टीव स्मिथ के विकेट लेकर मैच का पासा पलटा और खुद को उपयोगी साबित किया। 

कलाई के दूसरे स्पिनर युजवेंद्र चहल को कुलदीप के साथ खेलने का मौका मिल सकता है क्योंकि चिन्नास्वामी आईपीएल में उनका घरेलू मैदान है। चोट से उबरकर वापसी करने वाले जसप्रीत बुमराह की कसी हुई गेंदबाजी भारत के लिये एक और सकारात्मक पहलू रहा। उन्होंने एक छोर से दबाव बनाया और दूसरे छोर से विकेट मिलते रहे। मोहम्मद शमी और नवदीप सैनी ने भी अंतिम ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की। 

आस्ट्रेलिया भी हार के बाद बहुत ज्यादा बदलाव करेगा ऐसी संभावना नहीं है। कुलदीप के ओवर में दो विकेट गंवाने से पहले वह लक्ष्य हासिल करने की स्थिति में बना हुआ था। बेहतरीन फार्म में चल रहे मार्नस लाबुशेन ने अपनी पहली वनडे पारी में प्रभाव छोड़ा। मिशेल स्टार्क ने पिछले मैच में दस ओवर में 78 रन लुटाये लेकिन वह वापसी के लिये प्रतिबद्ध होंगे।
facebook twitter