+

भारत-चीन के बीच फिर हुई कूटनीतिक वार्ता, लंबित मुद्दों को तेजी से सुलझाने पर बनी सहमति

भारत और चीन ने बृहस्पतिवार को मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के तहत, लंबित मुद्दों के जल्द निपटारे पर सहमति जताई।
भारत-चीन के बीच फिर हुई कूटनीतिक वार्ता, लंबित मुद्दों को तेजी से सुलझाने पर बनी सहमति
भारत और चीन ने बृहस्पतिवार को मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल के तहत, लंबित मुद्दों के जल्द निपटारे पर सहमति जताई। दोनों पक्षों के बीच पूर्वी लद्दाख में सीमा संबंधी गतिरोध को लेकर ताजा राजनयिक वार्ता के बाद विदेश मंत्रालय ने यह बात कही।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बनी मौजूदा स्थिति को लेकर दोनों पक्षों के बीच ‘‘स्पष्ट और गहन बातचीत हुई। दोनों पक्षों के बीच सीमा मामलों पर परामर्श एवं सहयोग संबंधी कार्यकारी तंत्र (डब्ल्यूएमसीसी) के तहत डिजिटल माध्यम से वार्ता हुई।

प्रवक्ता ने कहा कि दोनों पक्षों ने यह स्वीकार किया कि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति की बहाली संबंधों के समग्र विकास के लिए आवश्यक है। श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्षों ने पश्चिमी सेक्टर में एलएसी के पास सैनिकों के पूरी तरह से पीछे हटने के लिए पूरी गंभीरता के साथ काम करने की पुन: पुष्टि की, जैसी सहमति दोनों देशों के विदेश मंत्रियों और विशेष प्रतिनिधियों के बीच बनी थी।
facebook twitter instagram