+

कोरोना की चपेट में आए टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री, अन्य सहायक स्टाफ के साथ हुए आइसोलेट

बीसीसीआई ने बताया कि भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री कोरोना वायरस की जांच में पॉजिटिव पाये गये हैं।
कोरोना की चपेट में आए टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री, अन्य सहायक स्टाफ के साथ हुए आइसोलेट
भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने रविवार को बताया कि भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री कोरोना वायरस की जांच में पॉजिटिव पाये गये हैं जिसके बाद टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण सहित उनके तीन करीबी संपर्कों को अलग-थलग कर दिया गया है। शास्त्री ‘लेटरल फ्लो’ जांच (रैपिड एंटीजन जांच) में पॉजिटिव मिले है। वह और दूसरे सहयोगी सदस्य आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट के आने तक पृथकवास रहेंगे। इंग्लैंड के खिलाफ चल रहे चौथे टेस्ट को कोई खतरा नहीं है क्योंकि इसमें खेलने वाले अन्य सभी सदस्यों का शनिवार शाम और रविवार सुबह को किये गये ‘लेटरल फ्लो’ जांच का नतीजा नेगेटिव आया है। 
क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर और मुख्य फिजियोथेरेपिस्ट नितिन पटेल को भी पृथकवास पर भेज दिया गया है। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने यहां जारी विज्ञप्ति में कहा, ‘‘ बीसीसीआई की चिकित्सा टीम ने कल शाम शास्त्री का ‘लेटरल फ्लो’ जांच पॉजिटिव आने के बाद एहतियात के तौर पर मुख्य कोच के साथ गेंदबाजी कोच अरुण, क्षेत्ररक्षण कोच आर. श्रीधर और मुख्य फिजियोथेरेपिस्ट नितिन पटेल को पृथकवास कर दिया है।’’ 
टीम मंगलवार को मैनचेस्टर रवाना होगी और अगर ये चारों आरटी-पीसीआर जांच में पॉजिटिव आते है तो उन्हें 10 दिनों तक कमरे में पृथकवास पूरा करना होगा। इसके बाद आरटी-पीसीआर जांच में दो नेगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही वह टीम से जुड़ पायेंगे। शाह ने कहा, ‘‘ उनकी आरटी-पीसीआर जांच हुई है और वे नतीजा आने तक टीम होटल में रहेंगे और भारतीय टीम के साथ तब तक यात्रा नहीं करेंगे जब तक कि मेडिकल टीम से पुष्टि नहीं हो जाती।’’ 
उन्होंने कहा, ‘‘ भारतीय दल के शेष सदस्यों के कल शाम और रविवार सुबह को हुए दोनों जांच का नतीजा नेगेटिव रहा। जिसके बाद उन्हें ओवल में चल रहे चौथे टेस्ट के चौथे दिन के खेल को आगे बढ़ने की अनुमति दी गई।’’ ‘लेटरल फ्लो’ जांच के नतीजे हमेशा सटीक नहीं होते है क्योंकि यह एक रैपिड एंटीजन टेस्ट (आरएटी) है। भारतीय दल के सभी सदस्यों को खुद जांच करने के लिए इसकी किट दी गयी है। तीन सप्ताह के ब्रेक के दौरान ऋषभ पंत के कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद से भारतीय दल को हर दिन लेटरल फ्लो जांच करना होता है। 
यह समझा जा रहा है कि शास्त्री ने टीम होटल में किताब जारी (लॉन्च) करने के कार्यक्रम में शामिल होने के बाद इस बीमारी के लक्षण महसूस किये। इस कार्यक्रम में बाहर के मेहमानों को भी आने की अनुमति थी। बीसीसीआई के एक सूत्र ने कहा, ‘‘ चूंकि ब्रिटेन में कोई प्रतिबंध नहीं है, शास्त्री की पुस्तक लॉन्च पार्टी के दौरान बाहरी मेहमानों को अनुमति दी गई थी। ये लोग (टीम के सहयोगी सदस्य) भी उनके सबसे करीबी संपर्क थे, इसलिए वे अब पृथकवास पर रहेंगे।’’ 
facebook twitter instagram