+

कोरोना मरीजों के ठीक होने के मामले में भारत ने ब्राजील को छोड़ा पीछे, रिकवरी रेट 78 प्रतिशत

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में संक्रमण से मुक्त होने की दर 78 प्रतिशत तक पहुंच गई है, जो दर्शाता है कि भारत में संक्रमित तेजी से ठीक हो रहे हैं।
कोरोना मरीजों के ठीक होने के मामले में भारत ने ब्राजील को छोड़ा पीछे, रिकवरी रेट 78 प्रतिशत
देशभर में पिछले 24 घंटे के दौरान 77,512 कोरोना संक्रमितों के स्वस्थ होने से राष्ट्रीय औसत रिकवरी दर बढ़कर 78 प्रतिशत हो गयी है। भारत ने कोविड-19 रोगियों के ठीक होने की संख्या के मामले में सोमवार को ब्राजील को पीछे छोड़ दिया है। देश में अब तक 37,80,107 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं।
जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के आकड़ों में यह जानकारी दी गई है। आंकड़ों के अनुसार दुनिया भर में अब तक कुल 2,90,06,033 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं, जिनमें से 1,96,25,959 लोग ठीक हो चुके हैं। दुनियाभर में कोविड-19 से अब तक 9,24,105 लोगों की मौत हो चुकी है। 
दुनियाभर के कोविड-19 के आंकड़ों का संकलन कर रहे जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय की तालिका के अनुसार भारत में 37,80,107 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं और वह पहले पायदान पर है। दूसरे स्थान पर ब्राजील (37,23,206) और तीसरे पर अमेरिका (24,51,406) है। 
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में संक्रमण से मुक्त होने की दर 78 प्रतिशत तक पहुंच गई है, जो दर्शाता है कि भारत में संक्रमित तेजी से ठीक हो रहे हैं। मंत्रालय ने बयान में कहा, ''बीते 24 घंटे के दौरान 77,512 लोग ठीक हुए हैं। अब तक कुल 37,80,107 लोग ठीक हो चुके हैं। ठीक हो चुके लोगों और संक्रमितों के बीच अंतराल लगातार बढ़ रहा है। आज यह 28 लाख (27,93,509) के करीब पहुंच गया है।'' 
मंत्रालय ने कहा कि देश में जितने लोग संक्रमण से उबरे हैं, उनमें लगभग 60 प्रतिशत लोग महाराष्ट्र , कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु से हैं। भारत में अब भी 9,86,598 लोग वायरस से संक्रमित हैं। देश में 48,46,427 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा चुके है।
मंत्रालय ने आज बताया कि कोरोना संक्रमण से मुक्त होने वाले कुल व्यक्तियों में से 60 प्रतिशत से अधिक व्यक्ति देश के पांच राज्यों महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश के हैं। 
सरकारी आंकड़े के अनुसार, 13 सितंबर को कोरोना संक्रमणमुक्त हुए व्यक्तियों में महाराष्ट्र के 11,549, आंध्र प्रदेश के 10,131, कर्नाटक के 8,402, तमिलनाडु के 5,717, उत्तर प्रदेश के 5,958, ओडिशा के 3,363,दिल्ली के 3,453, पश्चिम बंगाल के 3,054, तेलंगाना के 2,479, असम के 2,556, हरियाणा के 2,248 और बिहार के 1,851 व्यक्ति शामिल हैं। 
सरकारी आंकड़े के मुताबिक रिकवरी दर के मामले में बिहार सबसे आगे है। बिहार में रिकवरी दर 91 प्रतिशत है। इसके अलावा तमिलनाडु में रिकवरी दर 89 प्रतिशत, पश्चिम बंगाल में 86 प्रतिशत, दिल्ली में 85 प्रतिशत, राजस्थान में 83 प्रतिशत, गुजरात में 83 प्रतिशत और आंध्र प्रदेश में 82 प्रतिशत है। 
इनके अलावा, तेलंगाना में रिकवरी दर 80 प्रतिशत, हरियाणा में रिकवरी दर 78 प्रतिशत, ओडिशा में 79 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 77 प्रतिशत, कर्नाटक में 77 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में 75 प्रतिशत, झारखंड में 76 प्रतिशत, केरल में 72 प्रतिशत, पंजाब में 72 प्रतिशत, महाराष्ट्र में 70 प्रतिशत, जम्मू-कश्मीर में 66 प्रतिशत और छत्तीसगढ़ में 50 प्रतिशत है।

होम्योपैथी आयोग और भारतीय आयुर्विज्ञान प्रणाली आयोग बिल संसद में पास


facebook twitter