+

जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती क्षेत्रों के लिए तैयार किए जा रहे 'अग्निवीर'

जम्मू-कश्मीर में सीमाओं की सुरक्षा के साथ-साथ भारतीय सेना कल्याण, सुधार और विकास कार्यो में भी सबसे आगे हैं। युवाओं को रोजगार योग्य बनाने के लिए विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के संचालन के अलावा, सेना ने इन दिनों युवाओं को विशेष प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है
जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती क्षेत्रों के लिए तैयार किए जा रहे 'अग्निवीर'
अग्निवीर भर्ती को लेकर देश में जान व माल की काफी हानि हुई थी और इस प्रस्ताव की कठोर निंदा की गई थी । रक्षा मंत्री राजनाथ द्वारा लिए गए निर्णय को विपक्ष ने खूब चुटकीयां ली थी। लेकिन परिस्थितियों के बदलने के बाद युवाओं ने इस भर्ती में बढ़ चढ़कर भाग लिया। 
जम्मू-कश्मीर में सीमाओं की सुरक्षा के साथ-साथ भारतीय सेना कल्याण, सुधार और विकास कार्यो में भी सबसे आगे हैं। युवाओं को रोजगार योग्य बनाने के लिए विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के संचालन के अलावा, सेना ने इन दिनों युवाओं को विशेष प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है, ताकि उन्हें केंद्र द्वारा शुरू की गई 'अग्निवीर' योजना के तहत भर्ती किया जा सके।
प्रशिक्षण का उद्देश्य जम्मू-कश्मीर के युवाओं को रोजगार देने के साथ-साथ देश की रक्षा के लिए अपनी सेवाएं देने का अवसर प्रदान करना है।
Agniveer Recruitment rally 2022: उत्तराखंड में शुरू होने वाली है अग्निवीर  भर्ती रैली, जल्द करें रजिस्ट्रेशन
भारतीय सेना दूरदराज और सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले युवाओं को आवश्यक ज्ञान और प्रशिक्षण प्रदान करने का प्रयास कर रही है, ताकि वे भर्ती में अच्छा प्रदर्शन कर सकें।
मनकोट, मेंढर, लोर्न, मंडी, पुंछ, रियासी, किश्तवाड़ आदि में सिलसिलेवार प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। प्रशिक्षण कार्यक्रम केवल लड़कों के लिए ही नहीं, बल्कि उन लड़कियों के लिए भी है, जो अग्निवीर योजना के तहत भर्ती होना चाहती हैं।
जम्मू स्थित रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद के अनुसार, सेना ने पुंछ जिले के मेंढर में महिला एनसीसी कैडेटों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमें 200 लड़कियों ने भाग लिया। उन्हें भर्ती के लिए आवश्यक शारीरिक परीक्षण, 1600 मीटर दौड़ और अन्य प्रशिक्षण दिया गया। इसके अलावा जागरूकता व्याख्यान का भी आयोजन किया गया, जिसमें लिखित परीक्षा में पूछे जा सकने वाले प्रश्नों के बारे में बताया गया।गौरतलब है कि अग्निवीर योजना के तहत जम्मू प्रांत के लिए भर्ती रैलियां 7 अक्टूबर से शुरू हो रही हैं, जिसे देखते हुए सेना दिन-रात युवाओं को तैयार करने में जुटी है।सुदूर और सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले युवाओं ने सेना की पहल की सराहना करते हुए उनके जज्बे को सलाम किया है।

facebook twitter instagram