जगदीप धनखड़ ने कहा- जेयू जाने से पहले मुख्यमंत्री से बातचीत करने के बाद पर्याप्त समय तक इंतजार किया

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को बचाने के लिए शुक्रवार को यादवपुर विश्वविद्यालय के दौरे को न्यायसंगत बताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ बातचीत करने के बाद उन्होंने ‘‘पर्याप्त समय’’ तक इंतजार किया और जब ‘‘स्थिति में कोई बदलाव नहीं दिखा’’ तो वह विश्वविद्यालय के लिए रवाना हो गए।

केंद्रीय मंत्री सुप्रियो अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने वहां गए थे । विश्वविद्यालय में छात्रों के एक धड़े ने सुप्रियो का घेराव किया और उनके साथ धक्का मुक्की की। इसके बाद राज्यपाल को वहां जाना पड़ा। 

विश्वविद्यालय परिसर में वाम छात्र संगठनों और कुछ तृणमूल कांग्रेस छात्र संगठन ने लगभग पांच घंटे तक सुप्रियो को घेरे रखा । इसके बाद राज्यपाल गुरूवार की शाम उन्हें वहां से निकाल कर लाये। राज्य के शिक्षा मंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस महासचिव पार्थ चटर्जी ने दावा किया कि राज्यपाल सरकार को सूचित किये बगैर विश्वविद्यालय के परिसर में गए। 

चटर्जी ने राज्यपाल पर हंगामे के लिए पश्चिम बंगाल सरकार को जिम्मेदार ठहराने में ‘‘पक्षपातपूर्ण दृष्टिकोण’’ अपनाने का आरोप लगाया। 

तृणमूल कांग्रेस महासचिव के बयान को ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ करार देते हुए, धनखड़ ने कहा, ‘‘जाहिर है कि वह (चटर्जी) राज्यपाल और पुलिस महानिदेशक / मुख्य सचिव के बीच के घटनाक्रम के बारे में नहीं जानते थे और मुख्यमंत्री के साथ हुई बातचीत के बारे में भी उन्हें नहीं पता था। जो बात कही गयी है वह तथ्यात्मक रूप से गलत है।’’ राज्यपाल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि विश्वविद्यालय में उनके दौरे से ‘‘अप्रिय स्थिति’’ समाप्त हो गयी और इससे उन्हें राहत मिली है । 
Tags : Badrinath,चारधाम यात्रा,बद्रीनाथ,हिमपात,Snow,भीषण ठंड,Kedarnath Dham,केदारनाथ धाम,Chardham Yatra,Gruzing cold ,Jagdeep Dhankhar,Chief Minister,Partha Chatterjee,JU,State education minister,university campus,government,Trinamool Congress,governor