जम्मू कश्मीर : यूरोपीय सांसद बोले- कश्मीर को दूसरा अफगानिस्तान नहीं बनते देखना चाहते

जम्मू-कश्मीर दौरे पर आए यूरोपीय सांसदों के दल ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कॉन्फ्रेंस कर कहा कि भारत एक शांतिप्रिय देश है और कश्मीर के लोगों को काफी उम्मीदें हैं। उन्होंने कहा हमारे दौरे को राजनीतिक नज़र से देखा गया जो बिल्कुल ठीक नहीं है। हमें भारतीय राजनीति से मतलब नहीं है और कश्मीर के लोग विकास चाहते हैं और शांति चाहते हैं। 

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना के बीच तकरार पर NCP ने कार्टून बनाकर किया कटाक्ष

ईयू सांसद ने कहा कि मेरे देश में भी आतंकवाद एक समस्या है। इस दौरे के दौरान हमने भारतीय सेना के लोगों से बात की है। उन्होंने कहा कि 40 साल में बीस से ज्यादा बार भारत आया हूं। एक ईयू सांसद ने हम आपकी समस्या समझने के लिए कश्मीर में हैं और हम हिटलर के समर्थक नहीं हैं। 

सांसद ने कहा कि सब लोग स्कूल और अस्पताल खुलते हुए देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि कल की आतंकी घटना से हम बहुत दुखी हैं। हम सिर्फ तथ्य जुटाने के लिए यहां आए हैं। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद लोगों से मिलना था और जम्मू-कश्मीर को भ्रष्टाचार से मुक्ति मिलेगी।

कश्मीर आना अच्छा अनुभव था और हम जम्मू-कश्मीर को दूसरा अफगानिस्तान बनते हुए नहीं देखना चाहते हैं। हमनें दुनियाभर में आतंक के खिलाफ लड़ाई लड़ी है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में बहुत भ्रष्टाचार है।
Tags : चीनी,Chinese,Punjab Kesari,GST Council,जीएसटी काउंसिल,जीएसटीएन,gstn,Karnataka elections,कर्नाटक चुनाव ,Kashmir,MPs,Jammu,European,Afghanistan,press conference,country,group,conference,India