+

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के 'जेठालाल' ने नेपोटिज्म पर किया बड़ा खुलासा, कहा- ये हमारी संस्कृति है

दिलीप जोशी ने हाल ही में एक यूट्यूब चैनल को दिए इंटरव्यू में बताया कि उन्हें अपने करियर में कभी नेपोटिज्म का सामना नहीं करना पड़ा।
'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के 'जेठालाल' ने नेपोटिज्म पर किया बड़ा खुलासा, कहा- ये हमारी संस्कृति है
बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद फिल्म इंडस्ट्री में कई मुद्दों पर बहस छिड़ी हुई है। इनमें नोपोटिज्म का मुद्दों भी काफी चर्चा में हैं। एक्टर के निधन के बाद लगाता कई स्टार्स सामने आकर इस पर खुलकर बात कर रहे हैं। इस विषय पर सितारे अपनी प्रतिक्रिया देते रहते हैं। अब इस पर पॉप्युलर शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा के जेठा लाल यानी दिलीप जोशी ने रिएक्शन दिया है। 


दिलीप जोशी ने हाल ही में एक यूट्यूब चैनल को दिए इंटरव्यू में बताया कि उन्हें अपने करियर में कभी नेपोटिज्म का सामना नहीं करना पड़ा। उन्होंने कहा, ''ये हमारी संस्कृति है। अगर कोई व्यापारी है, उसने अपना धंधा जमाया है और उसका बेटा उसमें शामिल होना चाहता है तो वो निश्चित रूप से उसके जॉइन करेगा।'' हालांकि, दिलीप जोशी ने आगे कहा कि टैलेंटेड लोगों को मौका दिया जाना चाहिए, जिनका फिल्मी बैकग्राउंड से कोई नाता नहीं है।


उन्होंने कहा, ‘ये हमारा कल्चर है हमारी संस्कृति है। अगर कोई व्यापारी है, उसने अपना काम धंधा जमाया है और उसका बेटा उसमें शामिल होना चाहता है तो वो निश्चित रूप से अपने पिता के धंधे को ज्वाइन करेगा।' आपको बता दें कि हाल ही में एक दूसरे इंटरव्यू में दिलीप जोशी ने शो की गिरती टीआरपी को लेकर भी बात की थी। उन्होंने कहा था कि समय के साथ  तारक मेहता का उल्टा चश्मा की राइटिंग पर काफी बुरा असर पड़ा है। उन्होंने ये भी कहा था कि शो के राइटर्स पर काफी प्रैशर होता है। 
बॉलीवुड केसरी :
facebook twitter instagram