+

चीन के साथ करार के मामले में अदालत की टिप्पणी का हवाला देते हुए जेपी नड्डा ने कांग्रेस पर साधा निशाना

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को 2008 के कथित समझौते के मामले में एनआईए से जांच कराने की मांग वाली जनहित याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था।
चीन के साथ करार के मामले में अदालत की टिप्पणी का हवाला देते हुए जेपी नड्डा ने कांग्रेस पर साधा निशाना
भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के बीच 2008 में हुए कथित समझौते के मामले में जांच की मांग करने वाली जनहित याचिका पर उच्चतम न्यायालय की कुछ टिप्पणियों का हवाला देते हुए शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी नेता राहुल गांधी से स्पष्टीकरण मांगा।

नड्डा ने ट्वीट किया, ‘‘उच्चतम न्यायालय भी चीन की सरकार के साथ कांग्रेस पार्टी के सहमति पत्र (एमओयू) से हैरान है। श्रीमती गांधी और उनके बेटे, जिनकी अगुवाई में एमओयू पर दस्तखत किये गये, को सफाई देनी चाहिए। क्या यह आरजीएफ को चंदा और बदले में चीन वालों के लिए भारतीय बाजार खोलने के बारे में बताता है जिससे भारतीय कारोबार प्रभावित हुआ?’’

उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को 2008 के कथित समझौते के मामले में एनआईए से जांच कराने की मांग वाली जनहित याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था। हालांकि जब पीआईएल दाखिल करने वाले वकील महेश जेठमलानी ने कहा कि यह इस देश के एक राजनीतिक दल का उस देश (चीन) की एकमात्र राजनीतिक पार्टी के बीच समझौता था और मामला राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है तो न्यायालय ने आश्चर्य प्रकट किया।

न्यायालय ने कहा, ‘‘हमारे सीमित अनुभव की बात करें तो हमने ऐसा नहीं सुना कि कोई राजनीतिक दल दूसरे देश के साथ करार कर रहा है।’’ नड्डा ने न्यायालय की इसी टिप्पणी का हवाला देते हुए इस विषय पर कांग्रेस पर निशाना साधा।

facebook twitter