कर्नाटक भाजपा को सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार नहीं : सिद्धारमैया

कांग्रेस नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने शुक्रवार को कहा कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी सरकार पिछले दरवाजे से आयी है, उसने नैतिकता खो दी है और इसलिए उसे सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है। 

बेंगलुरु प्रेस क्लब और बेंगलुरु रिपोर्टर्स गिल्ड की ओर से आयोजित एक बैठक को संबोधित करते हुए श्री सिद्धारमैया ने कहा, ‘‘ 2018 के विधानसभा चुनाव में स्पष्ट बहुमत हासिल करने में विफल रही भाजपा ने सत्ता हासिल करने के लिए कांग्रेस और जनता दल (एस) के बीच फूट डाली।’’ 

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा तक जद (एस) के विधायक को लुभाते हुए रंगे हाथों पकड़ जा चुके हैं। बाद में उन्होंने स्वीकार भी किया था कि उनके और जद (एस) विधायक के बीच बातचीत का जो ऑडियो सार्वजनिक किया गया था, उसमें उन्हीं की आवाज थी। 

कांग्रेस नेता ने भाजपा पर पिछले 100 दिन के कार्यकाल में कुछ भी नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह केवल दल-बदल की साजिश रच सकते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बाढ़ से निपटने में पूरी तरह विफल रही जिसके कारण लाखों लोग बेघर हो गये। बाढ़ पीड़तिं के लिए फंड जारी करने के दावे भी झूठे हैं। 

श्री सिद्धारमैया ने कहा कि जिन बाढ़ पीड़तिं को आश्रयगृहों मे ठहराया गया, उनकी हालत भी दयनीय है। 

आश्रयगृहों में शौचालय और पेयजल जैसी बुनियादी सुविधाओं का भी अभाव है। बारिश और बाढ़ के कारण ढहे स्कूल भवनों की अब तक मरम्मत नहीं की जा सकी है। बाढ़ की आपदा के 90 दिन बीत जाने के बाद भी अपनी फसलें, मकान और सारा सामान गवां चुके लोगों की स्थिति में कोई भी सुधार नहीं हुआ है। 

उन्होंने पांच दिसंबर को राज्य की 15 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उप चुनाव का उल्लेख करते हुए कहा कि राज्य के लोग इस चुनाव में भाजपा को बड़ी सबक सिखाएंगे। पार्टी 224 विधानसभा क्षेत्रों में बहुमत हासिल नहीं कर सकेगी।

Tags : Narendra Modi,कांग्रेस,Congress,नरेंद्र मोदी,राहुल गांधी,Rahul Gandhi,punjabkesri ,Siddaramaiah,Karnataka,BJP,government,Congress,state