+

गणतंत्र दिवस हिंसा के लिए केजरीवाल ने केंद्र को ठहराया जिम्मेदार, कहा- तीनों कृषि कानून किसानों के डेथ वारंट

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा के लिए केंद्र को दोषी ठहराया है।
गणतंत्र दिवस हिंसा के लिए केजरीवाल ने केंद्र को ठहराया जिम्मेदार, कहा- तीनों कृषि कानून किसानों के डेथ वारंट
दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा के लिए केंद्र को दोषी ठहराया है। मेरठ में रविवार को एक 'किसान महापंचायत' को संबोधित करते हुए, केजरीवाल ने किसानों को अपना समर्थन दिया और कहा, लाल किले की हिंसा के पीछे केंद्र है, न कि किसान।
उन किसानों को गुमराह किया गया, जो दिल्ली की सड़कों को नहीं जानते थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें पता है कि किसानों द्वारा ट्रैक्टर परेड निकालने के दिन क्या हुआ था। हमारे देश के किसान दुखी हैं। 90 दिनों से अधिक समय हो गया है और वे अपने परिवारों के साथ दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।
इन तीन महीनों में 250 से अधिक किसानों की मौत हो गई है, लेकिन केंद्र ने इस बारे में कुछ नहीं किया है। आप नेता ने कहा कि प्रदर्शनकारी किसानों को उन अत्याचारों का सामना करना पड़ा, जो ब्रिटिश शासन के दौरान भी नहीं करने पड़े थे। उन्होंने कहा, प्रदर्शनकारियों पर झूठे मामले चलाए जा रहे हैं।
हमारे किसान कुछ भी हो सकते हैं, लेकिन देशद्रोही नहीं हैं। हालांकि, उन्हें देशद्रोह के आरोप का सामना करना पड़ा है। देश का एक बेटा देश की सीमाओं की रक्षा कर रहा है, दूसरा दिल्ली की सीमा पर है। केजरीवाल ने तीन कृषि कानूनों को मौत का वारंट बताया और कहा कि कानून सरकार के पूंजीपति मित्रों को लाभ पहुंचाने के लिए पारित किए गए थे।
facebook twitter instagram