+

स्वतंत्रता दिवस पर बोले केजरीवाल- 130 करोड़ लोगों को मिलकर नए भारत की नीव रखनी है, मुफ्तखोरी को लेकर कही यह बात

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि निशुल्क शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं मुफ्तखोरी नहीं हैं
स्वतंत्रता दिवस पर बोले केजरीवाल- 130 करोड़ लोगों को मिलकर नए भारत की नीव रखनी है, मुफ्तखोरी को लेकर कही यह बात
फ्री की रेवड़ी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि जनता की भलाई के लिए निशुल्क सेवाएं और फ्री की शिक्षा से राज्य में मुफ्तखोरी नहीं बढ़ेगी बल्कि एक नए भारत का निर्माण होगा । क्योंकि, दिल्ली में गरीब से लेकर मध्यम वर्ग तक के लोग इन सुविधाओं का लाभ उठाकर अपने जीवन को उजागर कर रहे हैं। 
तिरंगा तभी ऊंची उड़ान भरेगा- केजरीवाल
स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर छत्रसाल स्टेडियम में ध्वजारोहण के बाद केजरीवाल ने कहा कि आने वाला कल भारत का है और देश के 130 करोड़ लोगों को एक साथ आने तथा भारत को दुनिया का नंबर एक देश बनाने का संकल्प करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘‘ हमने एकसाथ आकर ब्रिटिश शासन को देश से निकाला था। आज, अगर हम साथ आएं तो भारत को दुनिया का नंबर एक देश बना सकते हैं।’’
इस तथ्य पर दुख व्यक्त करते हुए कि भारत के बाद स्वतंत्रता हासिल करने वाले कई देश उससे आगे निकल गए हैं उन्होंने एक बार फिर इस बात पर जोर दिया कि बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल एक समृद्ध देश बनने की कुंजी है।
केजरीवाल ने कहा, ‘‘ तिरंगा तभी ऊंची उड़ान भरेगा, जब हर भारतीय को बेहतर शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। सभी को देश की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ की शुभकामनाएं। देश खुशी एवं उत्साह से भरा है। आबोहवा में देशभक्ति और जुनून की लहर है।’’
हम कल की चुनौतियां और समस्याओं का सोचना चाहिए- केजरीवाल
स्वतंत्रता सेनानियों और देश के विकास एवं प्रगति के लिए संघर्ष करने वालों को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने कहा कि यह विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति का जश्न मनाने का समय है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ हालांकि हमें चुनौतियों और भविष्य के बारे में सोचने की जरूरत है। कई लोग पूछ रहे हैं कि 75 वर्षों में कई देश हमसे आगे कैसे निकल गए। भारत के 15 साल बाद आजाद होने वाला सिंगापुर और दूसरे विश्व युद्ध में तबाह हुआ जापान हमसे आगे निकल गया। हम किसी से कम नहीं हैं। भारतीय दुनिया में सबसे बुद्धिमान, मेहनती लोग हैं लेकिन फिर भी हम पिछड़ गए हैं।’’ उन्होंने अपने संबोधन का समापन ‘‘हम होंगे कामयाब’’ गीत गाते हुए किया।


facebook twitter instagram