+

चकला-बेलन खरीदना बुधवार के द‍िन होता है शुभ, इस तरह इस्तेमाल करने से होता है धन का नुकसान

अक्सर आपने लोगों को कहते हुए सुना होगा कि किचन की वस्तुओं के कारण भी वास्तु दोष लग जाता है। वास्तु शास्‍त्र के अनुसार अगर आप किचन की वस्तुओं को सही जगह
चकला-बेलन खरीदना बुधवार के द‍िन होता है शुभ, इस तरह इस्तेमाल करने से होता है धन का नुकसान
अक्सर आपने लोगों को कहते हुए सुना होगा कि किचन की वस्तुओं के कारण भी वास्तु दोष लग जाता है। वास्तु शास्‍त्र के अनुसार अगर आप किचन की वस्तुओं को सही जगह पर सही तरीके से नहीं रखते हैं या सही समय पर उन्हें खरीदते हैं तो वास्तु दोष लग जाता है। किचन की वस्तुओं में से एक चकला-बेलन भी होता है। अगर आप अपने किचन में चकला-बेलन का इस्तेमाल सही तरीके से नहीं करते हैं तो वास्तु दोष लगता है। सुख-समृद्धि घर में चकला-बेलन से आती है। 


अगर आप अपने घर में इसे सही तरीके से नहीं करते या इस्तेमाल करने का तरीका सही नहीं होता तो धन की हानि और दुख का वास घर में हो जाता है। वास्तुशास्‍त्र में चकला बेलन की खरीददारी का भी सही समय बताया है। चलिए आज हम आपको बताएंगेे कि कैसे व्यक्ति के जीवन में चकला बेलन कैसे प्रभाव डालता है और आप इस प्रभाव से कैसे बच सकते हैं। 

वास्तुशास्‍त्र क्या कहता है चकला बेलन के बारे में जानिए-

साफ-सफाई चकला-बेलन की


जब भी आप चकला-बेलन का इस्तेमाल करते हैं तो उसे हर बार साफ करके रखें। वास्तु के अनुसार अगर आप कभी-कभी चकला-बेलन साफ करते हैं तो इससे रोग और धनहानि घर में आती है। इसी वजह से कहा जाता है कि रोजाना चकला-बेलन धोएं। इससे आपके घर परिवार में निरोग बना रहता है। 

चकला-बेलन में न आए आवाज


वास्तु में कहा गया है कि रोटी बनाते समय जब चकले से आवाज आती है तो यह अशुभ संकेत होते हैं। मान्यता है कि धन की हानि चकले से आवाज का कारण बन सकती है। अगर आपके चकले से रोटी बनाते समय आवाज आए तो उसे जल्द ही बदल कर दूसरे नए चकले का उपयोग करें। इसके अलावा आप अपने चकले के नीचे कपड़ा या पेपर भी रख सकते हैं। इससे वास्तु दोष नहीं लगता।

जानें चकला-बेलन खरीदने का सही समय 


वास्तु शास्‍त्र में चकला-बेलन खरीदने का भी समय बताया है। अगर आप कचले-बेलन को किसी भी दिन खरीद लेते हैं तो यह सही नहीं होता। अगर आपको स्टील या लोहे का चकला खरीदना है तो भूल से भी शनिवार को इसे न खरीदें। पंचाक, मंगलवार और शनिवार के दिन लकड़ी के चकला-बेलन भी नहीं खरीदना चाहिए। बुधवार के दिन चकला-बेलन खरीदें।

चकला-बेलन रखने का है यह सही तरीका


लोग अक्सर चकला-बेलन को सही तरीके से नहीं रखते हैं जब वह उसका इस्तेमाल नहीं करते। यह बात जानना भी बहुत जरूरी है। स्टैंड में ही चकला-बेलन रखना चाहिए। चकला-बेलन आटे के ड्रम पर या बर्तन पर बिल्कुल भी नहीं रखें। चकले को खड़ा करके रखें और पटकर बेलन को रखें।

कौन सा अच्छा होता है चकला-बेलन


वास्तु शास्‍त्र में चकला-बेलन की धातु के बारे में भी बताया है। वास्तु के अनुसार स्टील के चकला और बेलन दोनों सबसे अच्छे होते हैं। हालांकि लकड़ी के चकला-बेलन को रोगी बताया गया है। ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि उसमें फफूंद लगने, तेल ज्यादा सोखने की कमियां बताई हैं। 
facebook twitter