+

बापू के जीवन से सीखें सफलता के वो 5 अद्भुत मंत्र जिन्हें जीवन में अपनाकर कभी नहीं होगी निराशा

हर भारतीय महात्मा गांधी पर गर्व करता है। 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में पुतलीबाई और करमचंद गांधी के घर पैदा हुए मोहनदास अपनेे कृत्य और व्यक्तित्व के जरिए महात्मा हुए।
बापू के जीवन से सीखें सफलता के वो 5 अद्भुत मंत्र जिन्हें जीवन में अपनाकर कभी नहीं होगी निराशा
हर भारतीय महात्मा गांधी पर गर्व करता है। 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में पुतलीबाई और करमचंद गांधी के घर पैदा हुए मोहनदास अपनेे कृत्य और व्यक्तित्व के जरिए महात्मा हुए। भारत को अंग्रजी हुकूमत से आजादी दिलाने में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का सबसे बड़ा योगदान रहा है।


महात्मा गांधी जी की 151 वीं जयंती 2 अक्टूबर 2020 को मनाई जाएगी। गांधीजी ने न केवल आजादी दिलवाई बल्कि अपने पूरी जिंदगी को एक प्रेरणा के रूप में लोगो को सामने रख दिया। वैसे बापू का जीवन उन सभी लोगों का खास प्ररेणा देता है जो अपनी जिंदगी में आने वाली समस्याओं से जल्द घबरा जाते हैं। तो आइए सीखते हैं बापू के जीवन से वो 5 बेहतरीन गुण जो आपको भी हमेशा-हमेशा के लिए सफलता की राह पर लें चलेंगे। 


1.आपका भविष्य आपकी आज की सोच पर हो

हमेशा ध्यान रखें आपका भविष्य इस बात पर निर्भर है कि आप आज क्या सोचते और करते हैं। क्योंकि लोग अक्सर यही निर्णय लेने में गलतियां कर बैठते हैं। दरअसल वो अपने कल के बारे में नहीं सोचते और सिर्फ आज पर ही अपना सारा समय,पैसा खर्च कर देते हैं। महात्मा गांधी कहा करते थे यदि वर्तमान में फैसले सही होंगे तभी भविष्य बेहतर होगा। 



2.ज्ञान हमेशा बांटने से बढ़ेगा

वो कहते हैं न कि ज्ञान जितना बाटोगे उतना ही बढ़ेगा। इसलिए हो सके तो सदैव सभी की मदद करें। इससे आपका व्यक्तित्व तो निखरेगा ही साथ ही ज्ञान बढ़ेगा। 


3.कभी न छोड़े धैर्य दामन

याद रखें किसी भी काम को करते वक्त धैर्य  का दामन बिल्कुल भी नहीं छोड़े। इसलिए किसी भी काम में सफलता हासिल करने के लिए राह में आने वाली मुश्किलों का हमेशा डट कर सामना करें। ऐसे में सफलता के लिए आगे भी बढ़ते रहे।

 

4.वित्तीय अनुशासन

गांधी जी का चौथा मंत्र जरूरी है कि आप अपने लिए वित्तीय अनुशासन को अपनाए। कल के लिए बचत करें। वहीं उस बचत को सही जगह पर निवेश करें। 


5.मजबूत चरित्र

बापू का जीवन उनके मजबूत चरित्र की एक खास पहचान है। महात्मा गांधी का आत्मविश्वास,दृढ निश्चय,अदम्य धीरज एंव अटूट साहस उन्हें उनके लक्ष्य यानी आजादी तक लेकर जा पहुंचा। तभी तो उन्होंने करोड़ों की तदाद में लोगों को अपना मुरदी बनाया। 
facebook twitter instagram