+

कुमारस्वामी बोले-मंदिर मुद्दे को ’राजनीतिक मोहरे’ और ‘सत्ता की सीढ़ी’ के रूप में किया गया इस्तेमाल

कुमारस्वामी ने कहा "भारतवासी के रूप में हमें अयोध्या में निर्माण के लिए कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी, लेकिन कुछ लोगों ने इसका इस्तेमाल राजनीतिक मोहरे और सत्ता की सीढ़ी की तरह किया जो कि हमारे लिए खराब क्षणों में से एक था।"
कुमारस्वामी बोले-मंदिर मुद्दे को ’राजनीतिक मोहरे’ और ‘सत्ता की सीढ़ी’ के रूप में किया गया इस्तेमाल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अयोध्या में भगवान राम के मंदिर निर्माण की नींव रखी। राम मंदिर के भूमिपूजन पर राजनीति जगत के लोग प्रसन्नता जाहिर कर रहे है। वहीं कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने बीजेपी तंज बुधवार को तंज कसते हुए कहा कि राम मंदिर का इस्तेमाल ‘राजनीतिक मोहरे’ और ‘सत्ता तक पहुंचने की सीढ़ी’ के रूप में किया गया।
उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘भारतवासी के रूप में हमें अयोध्या में निर्माण के लिए कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी, लेकिन कुछ लोगों ने इसका इस्तेमाल राजनीतिक मोहरे और सत्ता की सीढ़ी की तरह किया जो कि हमारे लिए खराब क्षणों में से एक था।’’ कुमारस्वामी ने राम जन्मभूमि पूजन के मौके पर ट्वीट करते हुए किसी भी पार्टी का नाम लिए बगैर यह ट्वीट किया। 
जद(एस) नेता ने कहा कि मंदिर को राम के आदर्शों को दिखाने वाले सौहार्द्र का प्रतीक रहने दें। इसके साथ ही स्वार्थ को खत्म करें और इसे सभी का मंगल करने दें। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राम मंदिर बनने के भारत के करोड़ों लोगों के सपने के पूरा होने का समय आ गया है और मंदिर को राम के सिद्धांतों का प्रतीक बनने दें जो कि सभी लोगों के दिलो-दिमाग में हैं।
facebook twitter