+

हरिद्वार में महाअष्‍टमी पर्व धूमधाम से मनाया गया

शारदीय नवरात्र में इन दिनों देवी मंदिरों से लेकर घरों तक आस्‍था की गंगा बह रही है। हरिद्वार सहित अन्य इलाकों में पूजा-अर्चना की धूम है।
हरिद्वार में महाअष्‍टमी पर्व धूमधाम से मनाया गया
हरिद्वार, संजय चौहान (पंजाब केसरी)ः शारदीय नवरात्र में इन दिनों देवी मंदिरों से लेकर घरों तक आस्‍था की गंगा बह रही है। हरिद्वार सहित अन्य इलाकों में पूजा-अर्चना की धूम है। आज सोमवार को महाअष्‍टमी के दिन देवी मंदिरों में सुबह से भक्‍तों की भीड़ मां के पूजन-अर्चन को जुटी दिखी। मां के जयकारे से मंदिर परिसर गूंजायमान दिखाई दिए। धार्मिक आयोजनों की भी धूम जोरों पर रही।
हरिद्वार जनपद में मंशा देवी, चंडीदेवी, मायादेवी मंदिर सहित अन्य माता के मंदिरों में शारदीय नवरात्रि की अष्टमी पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। मंदिर में सुबह से ही भक्त पहुंचने शुरू हो गए थे। जिससे परिसर में श्रद्धालुओं की लंबी कतारें लग गई। अष्टमी के दिन जहां भक्तों ने मां के मंदिर में शीश नवाया, साथ ही कन्याओं की पूजा भी की। इस दौरान मंदिर में माता के दर्शनों के लिए सुबह से भीड़ लगी हुई है, श्रद्धालु सुबह से ही भारी संख्या में मंदिर में पहुंचकर पूजा-अर्चना कर माता की आराधना की। इस दौरान कंजक पूजन कर माता की आराधना भक्तों द्वारा की गयी है।
अष्टमी के दिन मंदिर आए श्रद्धालु एकता अरोडा, रोहिनी चौहान ने कहा कि कोरोना के चलते 2 साल बाद वे लोग बेहतर तरीके से मंदिर में आकर माता रानी के दर्शन कर पा रहे हैं। शहर के अधिष्ठात्री देवी माता मंदिर मां मंशा देवी, चंडी देवी, मायादेवी है। ऐसे में हरिद्वार के साथ लगते क्षेत्रों के लोग भी माता के दर्शन करने यहां आते हैं।
 मायादेवी मंदिर में दर्शन के लिए आई शिवी, तनिषा चौहान व पूनम ने कहा कि आज मंदिर में आकर कंजक पूजन कर माता की आराधना की है। माता से कामना की है कि सभी लोगों पर उनका आशीर्वाद बना रहे। वहीं एक अन्य श्रद्धालु श्रीमती बंटा ने कहा कि 2 साल तक कोरोना संकट के कारण लोग त्योहार अच्छी तरह से नहीं बना पाए। इस बार स्थिति सामान्य होने पर लोगों में त्योहारों के प्रति बड़ा उत्साह है।
facebook twitter instagram