+

सीमा पर तनाव के बीच महाराष्ट्र सरकार ने तीन चीनी कंपनियों से किया 5,000 करोड़ रुपये निवेश का समझौता

सीमा पर तनाव के बीच महाराष्ट्र सरकार ने तीन चीनी कंपनियों से किया 5,000 करोड़ रुपये निवेश का समझौता
महाराष्ट्र सरकार ने चीन की तीन कंपनियों सहित विभिन्न देशों की 12 कंपनियों के साथ कुल 16,000 करोड़ रुपये के निवेश के सहमति-ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किये हैं। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार तीनों चीनी कंपनियों ने कुल मिलाकर 5,000 करोड़ रुपये निवेश का प्रस्ताव किया है। 
ये समझौते भारत और चीन के सैनिकों के बीच लेद्दाख में गलवान घाटी में हिंसक झड़प होने के कुछ ही घंटे पहले सोमवार को ‘‘मेग्नेटिक महाराष्ट्र 2.0’’ सम्मेलन में हुए।सीमा पर खूनी झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हुए। 
वक्तव्य में कहा गया है कि इन चीनी कंपनियों में हेंगली इंजीनियरिंग, पीएमआई इलेक्ट्रो मोबिलिटी साल्यूशंस का फोटोन के साथ संयुकत उद्यम है और तीसरी कंपनी ग्रेट वॉल मोटर्स है। ये सभी पुणे जिले के तालेगांव में निवेश करेंगी। 
इनमें से हेंगली इंजीनियरिंग 250 करोड़ रुपये का निवेश करेगी जबकि पीएमआई आटोमोबाइल क्षेत्र में 1,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी वहीं ग्रेट वॉल मोटर्स 3,770 करोड़ रुपये के निवेश से आटोमोबाइल कंपनी स्थापित करेगी। 
दूसरे देशों की कंपनियों के साथ भी सहमति ज्ञापन किये गये हैं। इनमें अमेरिका, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया की कंपनियां शामिल हैं। इनमं भी आटोमोबाइल, लाजिस्टिक्स, बैंकिंग, इंजीनियरिंग और मोबाइल उत्पादन क्षेत्र की कंपनियां शामिल हैं। 
facebook twitter