+

महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने महिलाओं को पीटने की घटना को बताया आपत्तिजनक, कहा- दोषियों पर होगी कार्रवाई

राकांपा और भाजपा के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प के एक दिन बाद महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने कहा कि जो भी दोषी होगा, उसके विरूद्ध पुलिस मामला दर्ज करेगी।
महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने महिलाओं को पीटने की घटना को बताया आपत्तिजनक, कहा- दोषियों पर होगी कार्रवाई
पुणे में हुए एक कार्यक्रम में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प के एक दिन बाद मंगलवार को महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने कहा कि जो भी दोषी होगा, भले ही वह किसी भी पार्टी से संबद्ध क्यों न हो, उसके विरूद्ध पुलिस मामला दर्ज करेगी। पुस्तक विमोचन के इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी मौजूद थीं। बहरहाल, प्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने पिछली घटनाओं का हवाला देते हुए दावा किया कि ‘‘राकांपा प्रमुख शरद पवार की मौन सहमति से महाराष्ट्र में राज्य सरकार प्रायोजित आतंकवाद है।’’ पवार की पार्टी राकांपा महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस के साथ गठबंधन कर सत्ता में साझेदार है।
पुणे में हुई NCP और BJP कार्यकर्ताओं के बीच झड़प
राकांपा की पुणे इकाई ने सोमवार को आरोप लगाया था कि जब एक सभागार में ईरानी एक पुस्तक के विमोचन समारोह में थीं, तब दोनों पक्षों के बीच टकराव के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने राकांपा की एक महिला कार्यकर्ता पर हमला किया। एक राकांपा नेता ने दावा किया था कि यह घटना तब हुई जब उक्त राकांपा सदस्य अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ एलपीजी के दाम में वृद्धि को लेकर ईरानी को एक ज्ञापन सौंपने गयी थीं।
गृह मंत्री वालसे पाटिल ने घटना को बताया आपत्तिजनक
वालसे पाटिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ किसी महिला पदाधिकारी या किसी महिला के साथ मारपीट करना आपत्तिजनक है। इसलिए उपयुक्त कार्रवाई की जाएगी।’’ राकांपा की महाराष्ट्र इकाई के प्रमुख प्रवक्ता महेश तापसे ने महिला पदाधिकारी पर इस कथित हमले की ईरानी, प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फड़णवीस और चंद्रकांत पाटिल द्वारा निंदा नहीं किये जाने पर नाखुशी प्रकट की।
घटना बताती है BJP की महाराष्ट्र इकाई की मानसिकता  
तापसे ने कहा, ‘‘ यह भाजपा की महाराष्ट्र इकाई की मानसिकता दर्शाता है। राज्य की महिलाएं इस घटना को जरूर याद रखेंगी।’’ राकांपा प्रवक्ता क्लायड क्रैस्टो ने कहा कि यह आश्चर्यजनक नहीं है कि (2014 से पहले, भाजपा के विपक्ष में रहने के दौरान) महंगाई पर ‘ बहुत प्रखरता से बोलने वालीं’ ईरानी अब इस मुद्दे पर चुप हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ लेकिन महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी जी चुप हें और पुणे में राकांपा की महिला कार्यकर्ता पर भाजपा के पुरूष कार्यकर्ताओं के हमले की निंदा नहीं कर रही हैं, उनका यह रवैया निंदनीय एवं उनके कर्तव्य निर्वहन में कोताही है।’’
भाजपा नेता ने साधा शरद पवार पर निशाना
भाजपा नेता उपाध्याय ने इस मुद्दे को लेकर राकांपा प्रमुख शरद पवार पर निशाना साधा। उन्होंने ‘पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में’’ राज्य के मंत्री जितेंद्र अवहाड के निवास पर एक अभियंता की राकांपा कार्यकर्ताओं द्वारा कथित पिटाई तथा भाजपा नेता विनायक आंबेडकर एवं मराठी अभिनेत्री केतकी चितले पर ‘हमले’ की हाल की अलग अलग घटनाओं का हवाला दिया।
भाजपा के एक बयान में उपाध्याय को उद्धृत करते हुए कहा गया है, ‘‘ शरद पवार की मौन सहमति से महाराष्ट्र में राज्य सरकार प्रायोजित आतंकवाद है..... शांतिपूर्वक जीवन जीने का लोगों का अधिकार राकांपा कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी के कारण खतरे में पड़ गया है।’’ उन्होंने दावा किया कि गृह मंत्रालय राकांपा के पास है और उसने पुलिस को उन लोगों को बचाने का निर्देश दिया है जो कथित रूप से आतंक फैलाने में लगे हैं। उन्होंने यह भी दावा किया कि सत्तारूढ़ गठबंधन ने ‘‘आतंकवाद के जरिए राजनीतिक विरोधियों का सफाया करने’’ की योजना बनायी है।
facebook twitter instagram