+

कूचबिहार हिंसा में मृतकों के परिजनों से ममता ने की मुलाकात, कहा- न्याय जरूर मिलेगा, दोषियों को होगी सजा

ममता बनर्जी ने सीतलकुची में सीआईएसएफ की गोली से मारे गए पांच लोगों के परिजनों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने मृतकों के परिवारों से कहा कि कूचबिहार में लोगों की जान लेने के जिम्मेदार लोगों को पकड़ा जाएगा और सजा दिलाई जाएगी।
कूचबिहार हिंसा में मृतकों के परिजनों से ममता ने की मुलाकात, कहा- न्याय जरूर मिलेगा, दोषियों को होगी सजा
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के दौरान सीआईएसएफ की गोलीबारी में मारे गए लोगों के परिवारों से बुधवार को मुलाकात की और कहा कि उनकी सरकार अपराधियों को सजा दिलाने के लिए जांच शुरू करेगी। बनर्जी ने इस बात पर खेद जताया कि कूच बिहार में नेताओं के प्रवेश पर लगाए गए 72 घंटे के प्रतिबंध के चलते वह मृतकों के परिवार वालों से नहीं मिल पाईं।
कूच बिहार में सीआईएसएफ कर्मियों की तरफ से कथित तौर पर आत्मरक्षा के लिए चलाई गई गोली में चार लोगों की मौत हो गई थी। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हमारी जांच में इस निर्मम हत्या के लिए जिम्मेदार हर व्यक्ति का पता लगाया जाएगा और सुनिश्चित किया जाएगा कि उन्हें कानून के मुताबिक सजा मिले।”
बनर्जी ने कहा कि वह पहली बार वोट देने जा रहे 18 साल के आनंद बर्मन के परिवार को न्याय दिलाना सुनिश्चित करेंगी जिसकी इसी जिले में मतदान केंद्र के बाहर गोली मार देने से मौत हो गई थी।। इस दौरान उन्होंने मृतकों के परिवारों से कहा कि कूचबिहार में लोगों की जान लेने के जिम्मेदार लोगों को पकड़ा जाएगा और सजा दिलाई जाएगी। मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद सीतलकुची में मारे गए लोगों के परिजनों ने कहा कि "दीदी हमसे मिलने आईं और कहा कि चुनाव खत्म होते ही वह हमारी मदद करेंगी। उन्होंने सांत्वना दी और हमें आशा दी। हमें उन पर भरोसा है।"
बता दें कि ममता ने भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘सीतलकूची में नरसंहार हुआ। मैं 14 अप्रैल तक सीतलकूची जाना चाहूंगी। आयोग कूच बिहार में प्रवेश को प्रतिबंधित करके तथ्यों को दबाने की कोशिश कर रहा है। हमारे पास एक अक्षम (केंद्रीय) गृह मंत्री और अक्षम केंद्र सरकार है।’’
उन्होंने कहा,“ मैं सभी मौतों को लेकर दुखी हूं और उनकी निंदा करती हूं।” इससे पूर्व बनर्जी ने को कोलकाता में चुनाव आयोग की ओर से उनपर प्रतिबंध लगाये जाने के विरोध में धरना दिया। गौरतलब है कि निर्वाचन आयोग ने चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के मामले में  बनर्जी पर 24 घंटे का प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया था। बनर्जी पर यह प्रतिबंध सोमवार रात आठ बजे से मंगलवार रात बजे तक के लिए लगाया गया। इस दौरान वह चुनाव प्रचार नहीं कर पायीं। बनर्जी ने मुस्लिम मतदाताओं से वोट बंटने न देने की अपील की थी। उन्होंने महिलाओं को सुरक्षाबलों का घेराव करने की सलाह भी दी थी।

बंगाल के चुनावी रणभूमि में आज उतरेंगे राहुल गांधी, आधा चुनाव निपटने के बाद पहली बार करेंगे प्रचार


facebook twitter instagram