+

वृहद आर्थिक आंकड़ों, तिमाही नतीजों और वैश्विक संकेतों से तय होगी बाजार की दिशा

घरेलू शेयर बाजारों की दिशा इस सप्ताह वृहद आर्थिक आंकड़ों, कंपनियों के तिमाही नतीजों तथा वैश्विक रुख से तय होगी। विश्लेषकों ने यह राय जताई है।
वृहद आर्थिक आंकड़ों, तिमाही नतीजों और वैश्विक संकेतों से तय होगी बाजार की दिशा
घरेलू शेयर बाजारों की दिशा इस सप्ताह वृहद आर्थिक आंकड़ों, कंपनियों के तिमाही नतीजों तथा वैश्विक रुख से तय होगी। विश्लेषकों ने यह राय जताई है। इसके अलावा निवेशकों की निगाह कोविड-19 महामारी से संबंधित ताजा घटनाक्रमों तथा संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी पर रहेगी। 
मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ‘‘अमेरिका-चीन के बीच तनाव बढ़ने और कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी की वजह से अनिश्चितता बढ़ रही है। टीके के मोर्चे पर किसी सकारात्मक घटनाक्रम से अनिश्चितता घटेगी। ऐसे में शेयर बाजारों में अभी उतार-चढ़ाव रहेगा। तिमाही नतीजों का सीजन होने की वजह से कुछ शेयरों में गतिविधियां देखने को मिलेंगी।’’ 
पिछले सप्ताह रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा के बाद अब सभी की निगाहें मुद्रास्फीति और औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों पर हैं। रिजर्व बैंक ने समीक्षा में रेपो दर में बदलाव नहीं किया है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में मुद्रास्फीति ऊंचे स्तर पर रह सकती है, लेकिन वित्त वर्ष की दूसरी छमाही से यह नीचे आनी शुरू होगी। 

जोधपुर में 11 पाकिस्तानी शरणार्थियों के शव मिलने से हडकंप, जांच में जुटी पुलिस


रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष-शोध अजित मिश्रा ने कहा, ‘‘आगे चलकर वैश्विक संकेत तथा तिमाही नतीजे बाजार का रुख तय करेंगे। इसके अलावा निवेशकों की निगाहें वृहद आर्थिक आंकड़ों मसलन औद्योगिक उत्पादन, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति, टीका परीक्षण को लेकर घटनाक्रम तथा कोविड-19 के रुख पर रहेगी।’’ 
इस बीच, आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार देश में एक दिन में कोविड-19 के रिकॉर्ड 64,399 मामले आए हैं। अब देश में कोरोना वायरस संक्रमण का आंकड़ा 21,53,010 हो गया है। अब तक इस महामारी ने 43,379 लोगों की जान ली है। वैश्विक स्तर पर कोविड-19 के मामले दो करोड़ के करीब हो गए हैं। दुनियाभर में इस महामारी से करीब सात लाख लोगों की जान जा चुकी है। 
इसके अलावा सप्ताह के दौरान बाजार भागीदारों की निगाहें तिमाही नतीजों पर भी रहेगी। सप्ताह के दौरान बैंक ऑफ बड़ौदा, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बीपीसीएल, हीरो मोटोकॉर्प, एमआरएफ और एनटीपीसी के तिमाही नतीजे आने हैं। चॉइस ब्रोकिंग के कार्यकारी निदेशक सुमीत बगाड़िया ने कहा, ‘‘निवेशकों की निगाहें तिमाही नतीजों तथा अमेरिका-चीन तनाव पर रहेंगी।’’ 
पिछले सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 433.68 अंक यानी 1.15 प्रतिशत के लाभ में रहा। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी में 140.60 अंक यानी 1.26 प्रतिशत की बढ़त रही। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘वैश्विक बाजार निश्चित रूप से अमेरिका-चीन तनाव तथा चीन की जवाबी कार्रवाई से प्रभावित होंगे। अभी बाजार में तिमाही नतीजों के आधार पर विशिष्ट शेयरों में गतिविधियां जारी रहेंगी।’’ 

facebook twitter