+

अपहृत बच्ची के लिए फरिश्ता बना मार्शल

अपहृत बच्ची के लिए फरिश्ता बना मार्शल
नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली में जिस्म के सौदागर सक्रिय हैं। वह कहीं से भी कभी भी किसी भी बच्ची को उठाकर चकलाघरों में पहुंचा सकते हैं। सारा का सारा तंत्र इनकी मुट्ठी में है। मगर आम आदमी पार्टी सरकार की बस मार्शल योजना ने एक चार साल की बच्ची को दोजख में जाने से बचा लिया। बच्ची सही सलामत है। और सौदागर सलाखों के पीछे। पुलिस जांच में पता चला कि बच्ची को निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से एक युवक लेकर भागा था। 

बच्ची को वह कलस्टर बस संख्या 728 में लेकर जा रहा था। बच्ची के रोने पर मार्शल को शक हुआ। उसने युवक से बच्ची के संबंध में पूछा। इसके बाद अपहरण की बात सामने आई। मार्शल ने कंडक्टर के सहयोग से भाग रहे बदमाश को पकड़ा व उसे नजदीकी पुलिस चौकी लेकर गए। यहां से बच्ची को घरवालों के पास पहुंचाया गया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बहादुर बस मार्शल से मुलाकात की। इस मार्शल को मुख्यमंत्री सम्मानित करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा मुझे बस मार्शल पर गर्व है। 

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बताया कि घटना बुधवार सुबह करीब 11 बजे की है। कलस्टर बस संख्या 728 नजफगढ़ गोयला डेयरी से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन जा रही थी। बस में मार्शल अरुण कुमार तैनात थे, वहीं कंडक्टर विरेंद्र थे। बस पालम फ्लाईओवर के पास से एक 18 वर्षीय युवक चार साल की बच्ची को लेकर चढ़ा। बच्ची लगातार रो रही थी। इस पर मार्शल अरुण को शक हुआ। 

वो युवक धौलाकुआं पर उतरने की कोशिश करने लगा। उसने भागने की कोशिश की। मार्शल ने ड्राइवर को दरवाजा बंद करने को कहा। फिर कंडक्टर की मदद से बदमाश को पकड़ बच्ची को उसके चुंगल से छुड़ाया। इसमें चार सवारियों ने भी मदद की। फिर मार्शल बस को लेकर दिल्ली कैंट पुलिस चौकी पहुंचे, जहां बदमाश से पूछताछ हुई।

निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से हुआ था बच्ची का अपहरण
पुलिस चौकी में छानबीन के दौरान पता चला कि उस बदमाश ने बच्ची को निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से उठाया था। घरवालों ने निजामुद्दीन थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट भी कराई थी। मूलरूप से बच्ची का परिवार मध्य प्रदेश का रहने वाले है। वह ट्रेन पकड़ने के लिए स्टेशन गए थे। इसी दौरान बच्ची के पिता पानी लेने गए, तभी मौका देखकर बदमाश ने बच्ची का अपहरण कर लिया। वह अपनी दो अन्य बहनों के साथ मां के पीछे बैठी थी। फिर बदमाश रास्ता बदलकर भाग गया।

परिवार की नजर के सामने से किया अपहरण
पुलिस उपायुक्त, रेलवे पुलिस हरेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि बुधवार सुबह करीब 6 बजे मध्य प्रदेश के छत्तरपुर निवासी 32 वर्षीय एक शख्स ने हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के थाने में आकर शिकायत दर्ज करते हुए बताया कि वह ट्रेन से हजरत निजामुद्दीन के प्लेटफॉर्म नंबर-6 पर अपनी पत्नी और तीन बेटियों के साथ उतरा था। 

बाहर निकलने के दौरान सराय काले खां की ओर जाने वाले फुटओवर ब्रिज पर से अचानक ही उसकी 6 साल की बड़ी बेटी गायब हो गई और काफी तलाशने के बाद भी नहीं मिली। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस टीम ने बच्ची की तलाश तत्काल शुरू की। इसी बीच साउथ-वेस्ट जिले में स्थित सुब्रतो पार्क पुलिस पोस्ट से रेलवे पुलिस को सूचना मिली कि एक 6 साल की बच्ची जिसे रेलवे स्टेशन से अगवा किया गया है, उसे कलस्टर बस के मार्शल अरुण और कंडक्टर विरेन्द्र की मदद से सकुशल मुक्त करा लिया गया। 

सूचना पर पहुंची पुलिस ने बच्ची को बरामद कर उसके परिजनों को सौंप दिया और आरोपी द्वारका सेक्टर-2 निवासी सतीश कुमार (22) को गिरफ्तार कर लिया। शुरुआती जांच में पता चला कि आरोपी नशे का आदी है। 
Tags : ,Marshall,angel,Delhi,Jism dealers,anywhere
facebook twitter