+

मायावती का राहुल पर तंज, कहा- मजदूरों से मिलते समय आर्थिक मदद भी कर देते तो मिलती राहत

मायावती का राहुल पर तंज, कहा- मजदूरों से मिलते समय आर्थिक मदद भी कर देते तो मिलती राहत
बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने रविवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी के दिल्ली में मजदूरों से मिलने को लेकर तंज किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी नेता मजदूरों से मिलने के दौरान उनके आर्थिक मदद तथा गरीबों के खानें की व्यवस्था कर देते तो उन्हें राहत मिल जाती। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को अपनी 1000 बसें उत्तर प्रदेश भेजने की बजाय पंजाब और चंडीगढ़ भेजनी चाहिए ताकि प्रवासी मजदूर यमुना नदी के जरिए यात्रा करने की बजाय इन वाहनों से अपने गृह राज्य जा सके।
मायावती ने ट्वीट कर कहा कि “ कांग्रेसी नेता लोग दिल्ली में मजदूरों से मिलने के दौरान यदि प्रवासी मजदूरों की कुछ आर्थिक मदद और खाने आदि की व्यवस्था भी कर देते तो उन्हें थोड़ी राहत जरूर मिल जाती अर्थात कांग्रेस को उनके दुःख-दर्द को बांटने के साथ-साथ बीएसपी की तरह उनकी कुछ मदद भी जरूर करनी चाहिये।”
मायावती ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि “ कांग्रेस पार्टी अपनी 1,000 बसें यूपी भेजने के बजाए, उन्हें पहले पंजाब एवं चंडीगढ़ ही भेज दें, ताकि वे पीड़ित श्रमिकगण यमुना नदी में अपनी जान जोखिम में डालने के बजाए सड़क के जरिये सुरक्षित यूपी पहुंच सकें। ”

अखिलेश का योगी सरकार पर आरोप- गरीबों के लिए सील की UP की सीमाएं

गौरतलब है कि कांग्रेस ने राजस्थान के विभिन्न शहरों से प्रवासी मजदूरों को उत्तरप्रदेश की सीमा तक लाने के लिए 1000 बसें निजी बसें लगाने की घोषणा की है। बसपा नेता ने कांग्रेस के इस कदम की आलोचना करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों में भी प्रवासी मजदूरों की लगातार हो रही घोर उपेक्षा आदि के कारण काफी श्रमिकों के परिवारों को आए दिन दुर्घटना का भी शिकार होना पड़ रहा है।
जिसमें अभी तक इनकी काफी दर्दनाक मौतें भी हो चुकी हैं, जो अति-दुःखद हैं। इससे कांग्रेसी नेताओं को सबक सीखना चाहिये क्योंकि पंजाब और चण्डीगढ़ से काफी प्रवासी यूपी के मजदूर लोग, सरकार की अनदेखी और उपेक्षा होने की वजह से, यमुना नदी के जरिये भी घर वापसी कर रहे हैं, जिनके साथ कभी भी कोई दुर्घटना आदि हो सकती है।
facebook twitter