+

राष्ट्रपति पद से हटते ही रामनाथ कोविंद पर हमलावर हुईं महबूबा, जानें क्यों?

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती ने कश्मीर राग अलापते हुए पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पर निशाना साधा है।
राष्ट्रपति पद से हटते ही रामनाथ कोविंद पर हमलावर हुईं महबूबा, जानें क्यों?
आदिवासी समुदाय से आने वालीं द्रौपदी मुर्मू ने देश के 15वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ले ली है। इस बीच जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती ने कश्मीर राग अलापते हुए पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि निवर्तमान राष्ट्रपति अपने पीछे एक ऐसी विरासत छोड़ गए हैं जहां भारतीय संविधान को पंद्रहवीं बार कुचला गया था। 
महबूबा मुफ्ती ने द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति पद की शपथ लेते हुए ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, निवर्तमान राष्ट्रपति अपने पीछे एक ऐसी विरासत छोड़ गए हैं जहां भारतीय संविधान को पंद्रहवीं बार कुचला गया था। चाहे वह अनुच्छेद 370, सीएए को खत्म करना हो या अल्पसंख्यकों और दलितों को बेधड़क निशाना बनाना हो, उन्होंने भारतीय संविधान की कीमत पर बीजेपी के राजनीतिक एजेंडे को पूरा किया।
गौरतलब है कि महबूबा मुफ्ती अनुच्छेद 370 और सीएए को लेकर लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी नीत केंद्र सरकार पर हमलावर होती रही हैं। उन्होंने इस बार सीधे तौर पर पूर्व राष्ट्रपति पर हमला बोला है। इससे पहले पडीपी प्रमुख ने 'हर घर तिरंगा अभियान' को लेकर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा था।
रामनाथ कोविंद के पूरा किया राष्ट्रपति पद पर 5 साल का कार्यकाल
आपको बता दें कि देश के 14वें राष्ट्रपति के तौर पर 25 जुलाई 2017 को शपथ लेने वाले रामनाथ कोविंद ने पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद रविवार को राष्ट्रपति भवन से विदाई ले ली। जमीनी स्तर के नेता से लेकर देश के शीर्ष पद राष्ट्रपति तक का सफर तय करने वाले रामनाथ कोविंद समाज में समतावाद और समग्रता के पैरोकार रहे हैं।
facebook twitter instagram