+

कोरोना महामारी के कारण कर्नाटक विधानसभा के मानसून सत्र की अवधि कम की गयी

कर्नाटक विधानसभा के सोमवार को शुरू हुए आठ दिनों तक चलने वाले मानसून सत्र की अवधि कोरोना वायरस महामारी के कारण दो दिन घटा दी गई है।
कोरोना महामारी के कारण कर्नाटक विधानसभा के मानसून सत्र की अवधि कम की गयी
कर्नाटक विधानसभा के सोमवार को शुरू हुए आठ दिनों तक चलने वाले मानसून सत्र की अवधि कोरोना वायरस महामारी के कारण दो दिन घटा दी गई है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि पहले 30 सितंबर तक चलने वाला विधानसभा का सत्र अब सिर्फ छह दिनों का होगा और 26 सितंबर तक ही चलेगा जिसमें शनिवार को भी काम होगा। आम तौर पर शनिवार को सदन में अवकाश रहता है। 
कर्नाटक विधानसभा की कार्य मंत्रणा समिति की आज हुई बैठक के दौरान विपक्ष और सत्ता पक्ष के बीच प्रश्नकाल को लेकर सहमति नहीं बनी, सरकार जवाब सदन के पटल पर रखने पर जोर दे रही है। सत्र की अवधि कम किये जाने की पुष्टि करते हुए प्रदेश विधानसभा में विपक्ष के नेता सिद्धरमैया ने कहा कि सत्र की अवधि दो दिन घटाने का फैसला किया गया है और अब यह शनिवार तक पांच और दिन चलेगी। 
उन्होंने कहा, “सत्र अब शनिवार को भी चलेगा और हमारी मांग के बाद अब सदन की कार्यवाही प्रति दिन सुबह 10 बजे शुरू होगी जिससे सदन के कामकाज के लिये अतिरिक्त समय मिलेगा।” सिद्धरमैया के मुताबिक, येदियुरप्पा ने बैठक में कहा कि संसद सत्र की अवधि भी कम किये जाने की उम्मीद है और कई अन्य राज्य विधानसभाओं ने भी अपना सत्र संक्षिप्त कर लिया है, “हमें भी प्रमुख विधेयकों पर चर्चा के बाद इसे संक्षिप्त कर लेना चाहिए,लेकिन कांग्रेस इस पर सहमत नहीं थी।” 
उन्होंने कहा, “मैंने और हमारे सहयोगियों ने कहा कि कुछ अध्यादेशों समेत करीब 40 विधेयक हैं, हम समुचित चर्चा के बिना उन सभी पर सहमत नहीं हो सके क्योंकि वे लोक महत्व के हैं और वे (सरकार) इससे सहमत थी।” इससे पहले दिन में मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने संकेत दिये थे कि आठ दिनों के सत्र की अवधि को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा था कि वह कोरोना वायरस महामारी की वजह से विपक्ष के नेताओं से सत्र की अवधि घटाने को लेकर चर्चा करेंगे। गौरतलब है कि राज्य के कई मंत्रियों और विधायकों को कोविड-19 से पीड़ित पाया गया है। 


कृषि बिल: सचिन पायलट बोले- कांग्रेस देश के किसानों के साथ खड़ी है और हम उनकी लड़ाई जारी रखेंगे


facebook twitter