कोरोना संदिग्ध मिलने के चलते 28 परिवारों के 240 से ज्यादा लोग एहतियातन क्वारंटाइन किए गए

11:22 PM Apr 07, 2020 | Shera Rajput
कुछ दिन पहले नोएडा सेक्टर आठ में एक शख्स के कोरोना संदिग्ध मिलने के चलते मंगलवार शाम के वक्त जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने करीब 240 लोगों को क्वारंटाइन करवा दिया। यह लोग करीब 28 परिवारों से जुड़े बताये जाते हैं। इन सभी को एहतियातन क्वारंटाइन किया गया है। पूरे इलाके को सेनेटाइज भी कराया गया है। साथ की स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की कई टीमें तैनात की गयी है ताकि सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रह सके। 
दरअसल जिस सेक्टर आठ इलाके के इन परिवारों को क्वारंटाइन किया गया है, वो फैक्टरी और झुग्गी-बस्ती वाला इलाका है। बेहद संकरी गलियों वाली बस्ती है। इन गलियों में अधिकांश लोग रोजाना मेहनत मजदूरी करके खाने-कमाने के लिए देश के दूर दराज इलाकों से आकर अस्थाई झुग्गियां डालकर रहने लगे हैं। 
दोपहर के समय जिला प्रशासन को भनक लगी कि, इस इलाके में कुछ लोग संदिग्ध काना-फूसी करते सुने गये हैं। यह बातें कोरोना से संबंधित थीं। यहां कुछ दिन पहले एक शख्स कोरोना संदिग्ध मिला भी था। खबर मिलते ही मौके पर स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन की टीमें पहुंच गयीं। जांच करने पर सूचना सही पाई गयी। लिहाजा आनन फानन में इलाके को एहतियातन क्वारंटाइन क्षेत्र में बदल दिया गया। जिलाधिकारी गौतमबुद्ध नगर सुहास एलवाई ने इस बात से साफ इंकार किया कि यहां कोई नया कोरोना संदिग्ध मिला है। 
मंगलवार देर रात आईएएनएस से बात करते हुए जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने कहा, 'यह सब इंतजाम एहतियातन किये गये हैं। क्योंकि कुछ वक्त पहले इसी इलाके में एक कोरोना संदिग्ध मिला था। मंगलवार को यहां कोई नया कोरोना संदिग्ध नहीं मिला है। फिर भी चूंकि इस इलाके में पहले एक संदिग्ध मिल चुका था। लिहाजा उस संदिग्ध शख्स की चेन तोड़ने के लिए यह एहतियाती कदम उठाने पड़े हैं।' 
उधर गौतमबुद्ध नगर जिला पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने बताया, 'जिले में लॉकडाउन का उल्लंघन करने के आरोप में 1800 लोगों के खिलाफ कानून कार्यवाही की गयी। जबकि 5000 वाहनों को जिले में जब्त कर लिया गया।'

Related Stories: