+

देशभर में शारदीय नवरात्रों की धूम, वैष्णों देवी मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

शारदीय नवरात्रों की आज (26 सितंबर) से शुरुआत हो गई है। और इसका समापन 5 अक्टूबर 2022 को होगा। देशभर में मां दुर्गा के मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ रही है। जम्मू-कश्मीर के कटरा में वैष्णों देवी मंदिर में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।
देशभर में शारदीय नवरात्रों की धूम, वैष्णों देवी मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़
Navratri 2022 : शारदीय नवरात्रों की आज (26 सितंबर) से शुरुआत हो गई है। और इसका समापन 5 अक्टूबर 2022 को होगा। देशभर में मां दुर्गा के मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ रही है। जम्मू-कश्मीर के कटरा में वैष्णों देवी मंदिर में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। नवरात्री उत्सव को देखते हुए मंदिर में सुरक्षा व्यवस्था को भी बढ़ा दिया गया है।
नवरात्रों में मां दुर्गा के 9 अलग-अलग रूपों की पूजा की जारी है। नवरात्रि का ये त्योहार घटस्थापना से शुरू होता है और अष्टमी और नवमी तिथि पर कन्या पूजन के साथ पूर्ण होता है। मान्यता है कि सच्ची श्रद्धा और पूर्ण मन से की गई पूजा-अर्चना से देवी मां प्रसन्न होती हैं और भक्तों पर अपनी कृपा बरसाती हैं।
मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़
उत्तर प्रदेश के वाराणसी में श्रद्धालुओं ने नवरात्रि उत्सव के पहले दिन दुर्गा मंदिर में पूजा-अर्चना की। कानपुर के तपेश्वरी देवी मंदिर में श्रद्धालु दर्शन करने के लिए पहुंचे। नवरात्रि उत्सव के पहले दिन वैष्णो देवी मंदिर में श्रद्धालुओं की लंबी कतार देखी गई। श्रद्धालु बड़ी संख्या में माता के दर्शन को पहुंच रहे हैं। मध्य प्रदेश के भोपाल में श्रद्धालु नवरात्रि उत्सव के पहले दिन काली मंदिर में पूजा-अर्चना करने पहुंचे। दिल्ली के झंडेवालान मंदिर में नवरात्रि के पहले दिन श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना की।
देवी दुर्गा के साथ करे मां लक्ष्मी की भी पूजा
हिंदू धर्म में नवरात्रि के त्योहार को बहुत ही पवित्र और शुभ फल देने वाला माना गया है। माता के भक्तों के लिए नवरात्रि पर्व विशेष महत्व रखता है। मान्यता है कि इन दिनों में माता की विधिपूर्वक पूजन करने से ही पुण्य लाभ मिलता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार धन-हानि को दूर करने के लिए माता लक्ष्मी की पूजा-अर्चना भी करनी चाहिए। मां लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए नवरात्रि में रोजाना श्री अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम पाठ करें।

नवरात्रि के 9 दिन पहने माता की पंसद के अलग-अलग रंग के कपड़े, माता रानी होंगी प्रसन्न,पूजा का पूरा फल होगा प्राप्त

facebook twitter instagram