+

'उड़ान प्रतिबंध' सूची में नाम की वजह से नवाज शरीफ की लंदन जाने की योजना अधर में

'उड़ान प्रतिबंध' सूची में नाम की वजह से नवाज शरीफ की लंदन जाने की योजना अधर में
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का नाम ‘उड़ान प्रतिबंध’ सूची में होने की वजह से इलाज के लिए लंदन जाने की उनकी योजना अधर में लटक गई है। 'उड़ान प्रतिबंध' (नो फ्लाई) सूची में शामिल लोगों को उड़ान भरने की अनुमति नहीं होती। पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ बीमारी से जूझ रहे अपने भाई नवाज को इलाज के लिए लंदन लेकर जाने वाले थे। सूत्रों के हवाले से बताया था कि शहबाज रविवार को अपने भाई को चिकित्सीय उपचार के लिए लेकर जाएंगे। 
एक रिपोर्ट में बताया गया था कि नवाज शरीफ के उपचार के लिए हार्ले स्ट्रीट क्लीनिक में प्रबंध किए गए हैं। शहबाज और शरीफ रविवार को पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईएल) के विमान से लंदन जाएंगे। सरकार के एक अधिकारी ने कहा, "सरकार 'उड़ान प्रतिबंध' सूची (एक्ज़िट कंट्रोल लिस्ट-ईसीएल) से शरीफ का नाम नहीं हटा सकती क्योंकि इस मामले में अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने के लिए राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के अध्यक्ष मौजूद नहीं है।" 
उन्होंने कहा कि एनएबी के अधिकारियों ने शरीफ की चिकित्सीय रिपोर्ट मांगी है। इस बीच, पीएमएल-एन नेता ने प्रधानमंत्री इमरान खान पर अपनी बात से पलटने का आरोप लगाया, जिसमें उन्होंने कहा कि उन्हें उपचार के लिए शरीफ की विदेश यात्रा पर कोई आपत्ति नहीं है। 
प्रधानमंत्री की विशेष सहायक फिरदौस आशिक एवान ने कहा था कि शरीफ बेहद बीमार हैं और खान ने राजनीतिक और स्वास्थ्य संबंधी मामलों को अलग-अलग देखे जाने के अपने रुख को स्पष्ट कर दिया है। उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री इमरान खान का मानना है कि शरीफ के मामले में सभी कानूनी औपचारिकताओं को पूरा किया जाना चाहिए।"
गौरतलब है कि शरीफ की पत्नी कुलसुम का गत वर्ष लंदन में गले के कैंसर के कारण निधन हो गया था। लाहौर उच्च न्यायालय से गत बुधवार को जमानत पर रिहा की गई नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने कहा था कि शरीफ अपनी गंभीर सेहत के कारण विदेश जाकर इलाज कराने पर राजी हो गए हैं। 
शरीफ को बुधवार को लाहौर में उनके जट्टी उमरा रायविंड स्थित आवास ले जाया गया था। वह दो सप्ताह तक कई बीमारियों के इलाज के लिए पाकिस्तान के एक अस्पताल में भर्ती रहे थे। शरीफ (69) का प्लेटलेट काउंट अत्यधिक कम हो गया था जिसके बाद उन्हें 22 अक्टूबर को सर्विसेज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वह भ्रष्टाचार निरोधक इकाई की हिरासत में थे। 

facebook twitter