+

रिया से NCB की दूसरे दिन की पूछताछ खत्म, आज भी नहीं हुई गिरफ्तारी, कल फिर होगी पूछताछ

एनसीबी ने रिया से आज करीब 8 घंटे तक लंबी पूछताछ की। जिसके बाद स्पष्ट हो गया है कि रिया चक्रवर्ती की आज भी गिरफ्तारी नहीं होगी। उनसे एनसीबी की टीम मंगलवार को भी पूछताछ करेगी।
रिया से NCB की दूसरे दिन की पूछताछ खत्म, आज भी नहीं हुई गिरफ्तारी, कल फिर होगी पूछताछ
सुशांत केस में सीबीआई, ईडी और एनसीबी की जांच लगातार तेज होती जा रही है। सुशांत केस में ड्रग एंगल की जांच कर रही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने आज रिया चक्रवर्ती से लगातार दूसरे दिन पूछताछ की। एनसीबी की रिया से आज की पूछताछ खत्म हो गई  है। 

एनसीबी ने रिया से आज करीब 8 घंटे तक लंबी पूछताछ की। जिसके बाद स्पष्ट हो गया है कि रिया चक्रवर्ती की आज भी गिरफ्तारी नहीं होगी। उनसे एनसीबी की टीम मंगलवार को भी पूछताछ करेगी। वहीं, मुंबई पुलिस की उस टीम को अलर्ट कर दिया गया है, जो रिया को एस्कॉर्ट करके ले जाती है।

आज सुबह 9.30 बजे से रिया चक्रवर्ती के साथ एनसीबी की चल रही पूछताछ खत्म हो गई है। वहीं, रिया से एनसीबी ने कल पहले दिन 6 घंटे तक पूछताछ की थी। पूछताछ का यह सिलसिला कल यानी तीसरे दिन भी जारी रहेगा। बताया जा रहा है कि एनसीबी अभी तक की पूछताछ में ऐसा कुछ नहीं सुबूत हाथ लगा जिससे वह रिया को गिरफ्तार कर सके। हालांकि, खबर यह भी है कि रिया पूछताछ में ठीक ठंग से जवाब नहीं दे रही है।

वहीं, ड्रग्स मामले में रिया के भाई शोविक चक्रवर्ती समेत सुशांत के स्टाफ दीपेश सावंत और सैमुअल मिरांडा पहले से ही एनसीबी की कस्टडी में है। सूत्रों के अनुसार, एनसीबी रिया से पूरी पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार करेगी। 


वहीं, रिया चक्रवर्ती ने दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत के लिए फर्जी मेडिकल पर्चे उपलब्ध कराने को लेकर सुशांत की बहन प्रियंका सिंह सहित अन्य के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज कराई है। रिया के वकील सतीश मानेशिंदे ने सोमवार को इस खबर की पुष्टि की।

मानशिंदे ने कहा, रिया चक्रवर्ती ने मुंबई पुलिस में प्रियंका सिंह, राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉ. तरुण कुमार और अन्य के खिलाफ जालसाजी, एनडीपीएस एक्ट और टेली मेडिसिन प्रैक्टिस गाइडलाइंस 2020 के तहत सुशांत को एक ओपीडी मरीज के रूप में दिखाने वाला फर्जी मेडिकल पर्चा भेजने का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

बयान में आगे कहा गया, जिस दिन ड्रग की पर्ची लिखी गई, उस दिन यानी 8 जून 2020 को वह मुंबई में थे, जो एनडीपीएस अधिनियम की अनुसूची 36 और 37 में साइकोट्रॉपिक पदार्थ और टेली मेडिसिन प्रैक्टिस गाइडलाइंस के अनुसार सूचीबद्ध है, जो कि जो एनडीपीएस अधिनियम में सूचीबद्ध किसी भी नार्कोटिक या साइकोट्रोपिक पदार्थ को निर्धारित करने पर रोक लगाता है। यह टेली मेडिसिन प्रैक्टिस गाइडलाइंस के 3.7.1.4 के तहत एक अपराध है।


facebook twitter