चंद्रयान-2 : विक्रम से संपर्क की उम्मीद खत्म, चांद पर होने वाली है रात

12:53 PM Sep 18, 2019 | Pinki Nayak
चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से संपर्क साधने की कोशिश लगभग ख़त्म हो चुकी है क्योंकि चंद घंटो में चांद पर रात हो जाएगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने चंद्रयान-2 के लिए लोगों के समर्थन का शुक्रिया किया है। देश के दूसरे चंद्र अभियान ‘चंद्रयान 2’ के लैंडर के साथ संपर्क टूटने के बाद मिले समर्थन पर इसरो ने मंगलवार को सभी देशवासियों का शुक्रिया अदा किया। 

सात सितंबर को चंद्रमा की सतह पर पहुंचने के कुछ ही मिनट पहले इसरो का लैंडर से संपर्क टूट गया था। इसरो ने ट्वीट किया, ‘‘हमारे साथ खड़े रहने के लिए आपका शुक्रिया। हम दुनियाभर में सभी भारतीयों की आशाओं और सपनों को पूरा करने की कोशिश करते रहेंगे।’’ इसरो ने कहा, ‘‘हमें प्रेरित करने के लिए शुक्रिया।’’ 

उल्लेखनीय है कि चंद्रयान- 2 का 47 दिनों की यात्रा के बाद महज 2.1 किमी की दूरी पर उसका संपर्क टूट गया। इसरो ने 22 जुलाई को चंद्रयान-2 का सफल प्रक्षेपण किया था। चंद्रयान-2 के तीन हिस्से हैं, आर्बिटर, लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान। लैंडर विक्रम रोवर प्रज्ञान के साथ सात सितंबर को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर 'सॉफ्ट लैंडिंग' करने वाला था लेकिन अंतिम समय में इसरो का उससे संपर्क टूट गया। 

मिशन के पूरी तरह से सफल न होने के बावजूद विश्व भर के कई लोगों समेत नासा ने भी इसरो का हौसला बढ़ाया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो के वैज्ञानिकों को संबोधित कर कहा था,“चंद्रमा को छूने की हमारी इच्छाशक्ति और दृढ़ हुई है तथा संकल्प और भी प्रबल हुआ है।” उन्होंने इस मिशन को गर्व से भरा बताया था और कहा था कि देश के 130 करोड़ लोग इसरो के साथ हैं। लोगों ने भी इसरो के वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाया।

Related Stories: