मैरी कॉम से मुकाबले को लेकर निकहत ने लिखा खेलमंत्री को पत्र

नई दिल्ली : पूर्व जूनियर विश्व चैंपियन निकहत जरीन ने खेल मंत्री किरेन रीजीजू को पत्र लिखकर अगले साल होने वाले ओलंपिक क्वालीफायर्स के लिये भारतीय टीम का चयन करने से पहले एम सी मैरी कॉम के खिलाफ ट्रायल मुकाबला करवाने की मांग की है। मैरी कॉम (51 किग्रा) ने रूस में हाल में समाप्त हुई विश्व चैंपियनशिप में अपना आठवां पदक हासिल किया। उन्हें इस प्रतियोगिता के लिये जरीन पर प्राथमिकता दी गयी थी। बीएफआई ने तब ट्रायल से इन्कार कर दिया था और मैरी कॉम के प्रदर्शन के आधार पर उन्हें टीम में रखने का फैसला किया था। 

बीएफआई की अब विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के कारण ओलंपिक क्वालीफायर्स के लिये भी मैरी कॉम को भेजने की योजना है। इस तरह से वह अपने पिछले फैसले से पीछे हट रहा है। तब उसने केवल स्वर्ण और रजत पदक विजेता का ही सीधा चयन करने का निर्णय किया था। क्वालीफायर्स अगले साल फरवरी में चीन में होंगे। जरीन ने अपने पत्र में लिखा है कि खेल का आधार निष्पक्षता है और किसी को हर समय खुद को साबित करने की जरूरत होती है। यहां तक कि ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता को भी अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिये फिर से मुकाबला करना होता है। उन्होंने कहा कि मैं किशोरावस्था से ही मैरी कॉम से प्रेरित रही हूं। 

इस प्रेरणा के साथ न्याय करने का सबसे अच्छा तरीका यही हो सकता है कि मैं उनकी तरह एक महान मुक्केबाज बनने का प्रयास करूं। क्या मैरी कॉम खेल की इतनी बड़ी हस्ती हैं कि उन्हें प्रतिस्पर्धा से दूर रखने की जरूरत है। दिलचस्प बात यह है कि बीएफआई का पुरुष वर्ग के मानदंडों के अनुसार कांस्य पदक विजेता का भी सीधा चयन होगा। 

जरीन ने लिखा है कि आखिर जब 23 बार के स्वर्ण पदक विजेता माइकल फेल्प्स को भी ओलंपिक के लिये हर बार नये सिरे से क्वालीफाई करना पड़ा, तो हम सभी को भी ऐसा करना चाहिए। मैरी कॉम कहती रही है कि चयन ट्रायल पर वह बीएफआई के दिशानिर्देशों का पालन करेंगी और अगर महासंघ कहता है तो ट्रायल में भाग लेंगी।
Tags : पटना,Patna,law,Ravi Shankar Prasad,Union Minister,Dalit,Punjab Kesari ,Mary Kom,Sports Minister,fight,Nikhat Zarine,team,qualifiers,Indian,trial match,Olympic