आरोपी की दया याचिका को पर राष्ट्रपति के फैसले का निर्भया के पिता ने किया स्वागत

निर्भया गैंगरेप मामले में आरोपी मुकेश की दया याचिका को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा खारिज होने के फैसले का निर्भया के पिता ने स्वागत किया है। निर्भया के साथ दिसंबर 2012 में बर्बर गैंगरेप की घटना हुई थी। बाद में निर्भया की मौत हो गई थी। निर्भया के पिता ने शुक्रवार को उम्मीद जताई कि अब दोषी फांसी के फंदे से नहीं बच पाएंगे। 
सूत्रों ने बताया कि कोविंद ने 2012 में हुए निर्भया मामले के चार दोषियों में से एक मुकेश सिंह की दया याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को सुबह ही राष्ट्रपति को याचिका भेजी थी। निर्भया के पिता ने कहा, ‘‘हमें खुशी है कि उन्हें फांसी के फंदे तक पहुंचाने की संभावना बढ़ गई है। हमें भरोसा है कि जैसे ही वह दया याचिका डालेंगे, वह अस्वीकार हो जाएगी।’’ 

आजम खान के बेटे को सुप्रीम कोर्ट से झटका, हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार

उन्होंने कहा कि जब यह खबर आई थी कि उन्हें 22 जनवरी को फांसी नहीं दी जा सकेगी तो वह निराश हो गए थे लेकिन शुक्रवार के घटनाक्रम से उम्मीद फिर बंधी है। निर्भया के पिता ने कहा, ‘‘पटियाला हाउस कोर्ट में दोपहर साढ़े तीन बजे सुनवाई होगी और इस फैसले का उस पर सकारात्मक असर पड़ेगा। कल जो निराशा थी वह आज आशा में बदल गई।’’ दिल्ली की अदालत ने गुरुवार को तिहाड़ जेल के अधिकारियों से कहा था कि वह निर्भया मामले में दोषियों को मौत की सजा पर अमल के बारे में शुक्रवार तक स्थिति रिपोर्ट पेश करे। 
मुकेश सिंह ने दो दिन पहले दया याचिका दी थी। सात जनवरी को पटियाला हाउस कोर्ट ने मौत का फरमान जारी करते हुए कहा था कि चारों दोषियों - मुकेश सिंह (32), विनय शर्मा (26), अक्षय कुमार सिंह (31) और पवन गुप्ता (25) को 22 जनवरी की सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी। हालांकि दिल्ली सरकार ने उच्च न्यायालय में कहा था कि दोषियों को फांसी नहीं दी जा सकती क्योंकि दोषी मुकेश ने दया याचिका दायर कर रखी है। 
Tags : Fire,photos,नासा,NASA,residues of crops ,President,Nirbhaya