+

बलात्कार पर अपनी चुप्पी तोड़े नीतीश कुमार : जीतन राम मांझी

बलात्कार पर अपनी चुप्पी तोड़े नीतीश कुमार : जीतन राम मांझी
पटना : सूबे में बढ़ रहे बलात्कार की घटना को लेकर हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (से0) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझीने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमारी पर हमला बोला है। माँझी ने कहा कि बलात्कार के मामले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चुप्पी यह साबित करती है कि राज्य की बेटिटयों से उनका कोई लेना देना नही है। माँझी उपस्थिति में उनके पटना सरकारी आवास 12 एम स्ट्रैंड रोड पटना में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीएल वैश्यन्त्री की अध्यक्षता में मिलन समारोह का आयोजन किया गया जिसके बाद माँझी मीडिया से बातचीत कर रहे थे।

हम पार्टी के द्वारा आयोजित मिलन समारोह में पाल धनगर एकता मंच के अध्यक्ष प्रफुल्ल चंद्रा, नीतीश कुमार दांगी, राकेश कुमार बड़ी संख्या में अपनेसमर्थकों के साथ हम पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

हम पार्टी की सदस्यता ग्रहण समारोह का संचालन अनिकेश पाल टाइगर और धन्यवाद ज्ञापन जोगी पाल मुखिया सबनीमा नेकी । सदस्यता ग्रहण करने वालों में पाल धनगर एकता मंच के अध्यक्ष प्रफुल्ल चंद्रा, नीतीश कुमार दांगी, राकेश कुमार,अनिकेत कुमार पाल, गीता पाल, राकेश कुमार गब्बर, लालबाबू राय, विक्की कुमार, राजू रंजन, विजेंद्र पाल, अखिलेश कुमार, धनंजय कुमार, विनोद कुमार, नवीन कुमार आदि प्रमुख थे।

नीतीश कुमार दांगी ने कहा कि हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (से०) को हम सभी ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी के विचारों और गरीबों के लिए निर्णय लेने की क्षमता को देखते हुए हम पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है।

 प्रफुल्ल चंद्र ने कहा कि हम नीतीश कुमार और राकेश कुमार जी के साथ गरीबों के लड़ाई में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी के साथ हैं। जीतन राम मांझी ऐसे नेता हैं जिन्होंने अपने 34 निर्णयों से यह साबित किया कि वह बिहार का विकास चाहते थे अगर उनके निर्णयों को नीतीश सरकार या एनडीए सरकार ने लागू किया होता तो आज बिहार की स्थिति बेहतर होती। आज भी नीतीश कुमार पूर्व मुख्यमंत्री हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी के निर्णय को दूसरे प्रारूप में बदल कर लागू कर रहे हैं। हम सभी आज जो भी हम पार्टी की सदस्यता लिए हैं सभी यह संकल्प लेते हैं कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देश पर पार्टी को आगे बढ़ाने का काम करेंगे।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीएल वैश्यन्त्री ने कहा कि बड़ी संख्या में हम पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने वाले सभी का हम तहे दिल से स्वागत करते हैं। हमारी पार्टी की मेनिफेस्टो में बिहार का मुख्यमंत्री दलित, अति पिछड़ा, अल्पसंख्यक से होगा। जिसमें एक मुख्यमंत्री दो उपमुख्यमंत्री होंगे।

 वैश्यन्त्री नेहम हम पार्टी सदस्यता ग्रहण करने वाले लोगों से कहा कि 38 जिलों में बूथ कमेटी बनाई जा रही है । आप सभी अपने-अपने जिलों में बूथ कमेटी का सदस्य बनाने के कार्यक्रम को आगे बढ़ाएं। आज हम 70% हैं तो मुख्यमंत्री हमारे होंगे । जब हमारी पार्टी के द्वारा सभी जगह बूथ कमेटी बन जाएगी। तब हम निश्चित तौर पर सत्ता में होंगे।

हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष वह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा की हमारी पार्टी की लोकप्रियता बढ़ी है लोग हम पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर रहे हैं । हम पार्टी का जनाधार बिहार में भाजपा जदयू  से कम नहीं। आज बिहार में हमारी पार्टी तीसरे नंबर पर काम कर रही है । सदस्यता ग्रहण करने वाले सभी आगंतुकों का तहे दिल से स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी गरीबों की पार्टी है। हम सभी का समान रूप से सम्मान करते हैं।

 मांझी ने कहा बिहार में जिस तरह से महिलाओं के साथ बलात्कार और बच्चियों के साथ सामूहिक बलात्कार आए दिन हो रहे हैं और सरकार मूकदर्शक बनी हुई है यह नीतीश सरकार की सबसे बड़ी विफलता है । हम सरकार से मांग करते हैं कि बलात्कारियों को स्पेशल कोर्ट गठित कर एक माह में चार्ट शीट और 60 दिनों के अंदर सजा हो ऐसा व्यवस्था या सरकार करें जिससे कि बलात्कार की घटना को रोका जा सके।

मांझी ने हम पार्टी सदस्यता ग्रहण करने वाले लोगों से कहा कि हमने जनता के लिए जो निर्णय लिए थे उसे नीतीश कुमार की सरकार ने लागू नहीं किया । अगर हमारी सरकार बनी तो बीए पास नौकरी नहीं करने वाले डिग्री होल्डर जिनकी उम्र 20 से 40 वर्ष तक के बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता के रूप में ₹5000 देगी यह हमने अपने कैबिनेट में निर्णय लिया था जिसे नीतीश कुमार ने लागू नहीं किया है। मैं पूछना चाहता सरकार से की वह जब तक डिग्री होल्डर को रोजगार नहीं दे रही अगर वह ₹5000 प्रति माह बेरोजगारी भत्ता देती तो वह निश्चित तौर पर पढ़ाई और कुछ रोजगार भी उस पैसे को जमा कर कर कर सकते थे लेकिन सरकार ऐसा नहीं है आज बेरोजगार युवा नौकरी और अर्थ अभाव में गलत रास्ते पर जाने को मजबूर हैं। इसके लिए सरकार दोषी है।

 मांझी ने कहा कि मैंने बच्चियों के लिए ग्रेजुएट तक की पढ़ाई निशुल्क देने का काम किया था।मैं चाहता था कि बच्चियों को पैसे के अभाव में पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए उन्हें पूरी तरह से मुक्त पढ़ाई की व्यवस्था सरकार के द्वारा दी जाने की थी। लेकिन सरकार की ढुलमुल नीति के कारण यह योजना नहीं हो पाई। मेरी सरकार या समर्थित सरकार अगर बनेगी तो निश्चित तौर पर बच्चियों की पढ़ाई ग्रेजुएशन तक मुक्त होगी।

मांझी ने कहा कि मेरी सरकार या मेरी द्वारा समर्थित सरकार अगर बनती है तो मैंने निर्णय लिया था कि 5 डिसमिल जमीन वालों को मुफ्त बिजली दी जाएगी । अगर सरकार बनी तो 10 एकड़ वाले जमीन मालिकों को मुफ्त बिजली खेती के लिए दी जाएगी।

मांझी ने कहा कि ग्रेजुएशन से नीचे के युवाओं के लिए दलित अति पिछड़ा अल्पसंख्यक परिवार के लोगों के लिए हमने 75 लाख ठेकेदारी में आरक्षण का प्रावधान किया था जिससे इस सरकार ने 25 लाख किया उसके बाद अब 50 लाख किया है । यदि हमारी सरकार बनती है तो इसके दायरे को बढ़ाकर 5 करोड़ की होगी।

मांझी ने कहाकि हमारी सरकार या समर्थित सरकार बनी तो कॉमन स्कूलिंग सिस्टम को लागू किया जाएगा जिसमें सभी को समान शिक्षा दी जाएगी आज दिल्ली में सरकारी स्कूलों में प्राइवेट जैसी व्यवस्था है उसी प्रकार बिहार में भी बच्चों के लिए पढ़ाई की व्यवस्था की जाएगी जिसमें सभी गरीब के बच्चे एक छत के नीचे अमीर और गरीब के बच्चे पढ़ेंगे।

मांझी ने कहा भूमि सुधार को लेकर हमारी पार्टी आंदोलन करेगी। यह आंदोलन गया से शुरू की जाएगी। जब तक गरीबों को दिए गए जमीन पर उनका कब्जा नहीं होता हम पार्टी संघर्ष करती रहेगी। इस मिलन समारोह मेंपार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, प्रदेश अध्यक्ष बीएल वैश्यन्त्री, कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष उपेंद्र प्रसाद, राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ दानिश रिजवान, राजेश्वर मांझी, अमरेंद्र कुमार त्रिपाठी, गीता पासवान, अनिल रजक, रविंद्र शास्त्री, रामनिवास पाल आदि प्रमुख थे।
facebook twitter