नित्यानंद आश्रम: बहनों ने अदालत से कहा...अमेरिका या वेस्टइंडीज से पेश हो सकती हैं

अहमदाबाद में स्वयंभू स्वामी नित्यांनद के आश्रम से लापता हुई दो बहनों ने मंगलवार को गुजरात उच्च न्यायालय से कहा कि वे अदालत के समक्ष वेस्ट इंडीज में भारतीय उच्चायोग या अमेरिका से वीडियो कान्फ्रेंस के जरिये पेश होने के लिए तैयार हैं, जबकि अदालत ने उनके व्यक्तिगत रूप से पेश होने पर जोर दिया। 

जनार्दन शर्मा की दोनों बेटियों के अधिवक्ता ने कहा कि दोनों व्यक्तिगत रूप से पेश नहीं हो सकतीं क्योंकि उनकी जान को उनके पिता से खतरा है। शर्मा ने अपनी दोनों बेटियों के यहां के आश्रम से लापता होने के बाद एक बंदी प्रत्यक्षीकरण अर्जी दायर की थी। 

न्यायमूर्ति एस आर ब्रह्मभट्ट और न्यायमूर्ति ए पी ठाकेर की खंडपीठ ने यद्यपि दोनों बहनों के निजी तौर पर पेश होने पर जोर दिया और भरोसा दिया कि उन्हें पूरा संरक्षण दिया जाएगा। 

अदालत ने दोनों बहनों के वकील को निर्देश दिया कि वे दोनों की ओर से 19 दिसम्बर तक एक जवाबी हलफनामा दायर करें। अदालत ने मामले की अगली सुनवायी की तिथि 20 दिसम्बर तय की। 

पुलिस ने इससे पहले की सुनवायी के दौरान अदालत से कहा था कि लोपामुद्रा शर्मा (21) और नंदिता शर्मा (18) हो सकता है कि विदेश चली गई हों। 

जनार्दन शर्मा ने अपनी बंदी प्रत्यक्षीकरण अर्जी में कहा था कि उनकी बेटियों को नित्यानंद के आश्रम में ‘‘अवैध रूप से’’ रखा गया है। 
Tags : Narendra Modi,कांग्रेस,Congress,नरेंद्र मोदी,राहुल गांधी,Rahul Gandhi,punjabkesri ,sisters,court,Nityananda Ashram,West Indies,America,Swayambhu Swami Nityananda,Ahmedabad,Gujarat High Court,video conference,Indian High Commission