+

दिल्ली की वायु गुणवत्ता में अब भी नहीं कोई सुधार, केंद्र ने भेजा केजरीवाल सरकार को नोटिस

केंद्र सरकार ने प्रदूषण के मामले पर दिल्ली सरकार को नोटिस भेजकर प्रदूषण को कम करने के लिए जरूरी उपाय करने के आदेश दिए हैं।
दिल्ली की वायु गुणवत्ता में अब भी नहीं कोई सुधार, केंद्र ने भेजा केजरीवाल सरकार को नोटिस
देश की राजधानी दिल्ली में सर्दियां शुरू होते ही प्रदूषण एक गंभीर समस्या बन जाता है। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के मुख्य कारण पड़ोस के राज्यों के खेतों में पराली जलाना, दिल्ली की सड़कों पर अत्यधिक वाहनों का चलना, औद्योगिक क्षेत्रों में लगातार हो रहे नियमों के उल्लंघन होते हैं जिनके कारण स्थिति खराब हो जाती है। खासकर ठंड के शुरुआती दिनों में स्थिति काफी बिगड़ जाती है। आज केंद्र सरकार ने प्रदूषण के मामले पर दिल्ली सरकार को नोटिस भेजकर प्रदूषण को कम करने के लिए जरूरी उपाय करने के आदेश दिए हैं।
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'पराली का जलना बंद हो गया है फिर भी दिल्ली में प्रदूषण का स्तर काफी खराब है। कहीं-कहीं तो हवा की गुणवत्ता की सूचकांक 300 और 400 के ऊपर है।' जावड़ेकर ने कहा कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की 50 टीमें रोजाना दिल्ली-एनसीआर में विभिन्न जगहों पर जाती है और वहां जो शिकायतें मिलती हैं, उन्हें संबंधित एजेंसी तक पहुंचाती है। उन शिकायतों पर कुछ काम तो होते हैं, लेकिन अधिकांश पर कोई कार्रवाई नहीं हो पाती है। यह स्थिति की गंभीरता को दिखाता है। उन्होंने कहा कि आज केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है। 
केजरीवाल सरकार को जारी किए नोटिस में कचरा जलाना, कचरे का निष्पादन, भवन निर्माण के नियमों के उल्लंघन, औद्योगिक इलाके में उड़ रही धूल को लेकर चिंता जाहिर की गई है। साथ ही प्रदूषण के जो भी कारण है उस पर कार्रवाई करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार और सभी एजेंसी को हरकत में आना चाहिए। जब पराली जलना बंद हो गया है तो प्रदूषण के अन्य कारणों पर कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने औद्योगिक क्षेत्रों में टायर जलाने को लेकर भी चिंता प्रकट की।
वायु गुणवत्ता के स्तर में नहीं हुआ कोई सुधार
दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) सुबह 9 बजे 364 दर्ज किया गया। गुरुवार को शहर में 24 घंटे का औसत एक्यूआई 341 था। यह बुधवार को 373, मंगलवार को 367, सोमवार को 318 और रविवार को 268 था। एक्यूआई शून्य से 50 के बीच ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘सामान्य’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है।
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार शुक्रवार को हवा की दिशा मुख्य रूप से पूर्व की ओर रहेगी और अधिकतम 10 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलेगी। साथ ही न्यूनतम तापमान 8 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं अधिकतम तापमान के 27 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है। केंद्र सरकार की दिल्ली के लिए वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली ने बताया कि वायु गुणवत्ता के शनिवार तक ‘बेहद खराब’ श्रेणी में बने रहने की आशंका है।

facebook twitter instagram