पाबंदियों में ढील के बावजूद कश्मीर में सामान्य जनजीवन प्रभावित

कश्मीर घाटी के 11 और थाना क्षेत्रों में पाबंदियों में ढील दी गई है, इसके बावजूद रविवार को लगातार 28वें दिन सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा। अधिकारियों ने बताया कि अब घाटी के 105 थाना क्षेत्रों में से 82 में कोई पाबंदी नहीं है। 29 टेलीफोन एक्सचेंजों में लैंडलाइन सेवाएं बहाल कर दी गई हैं। ये एक्सचेंज पहले से चालू 47 एक्सचेंज से अलग हैं। हालांकि, लाल चौक और प्रेस एनक्लेव में सेवाएं अब भी बाधित हैं। 

उन्होंने बताया कि घाटी में शनिवार को शांति बनी रही और कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। कश्मीर में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद कानून-व्यवस्था खराब होने की आशंका की वजह से लोगों की आवाजाही पर सख्त प्रतिबंध लगाए गए थे। केवल एंबुलेंस को और आपात मामलों में ही आने-जाने की अनुमति थी। शनिवार सुबह अधिकतर इलाकों से पाबंदियां हटा दी गई। 

जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर फर्जी खबरें फैला रहा है पाकिस्तान


अधिकारियों ने हालांकि कहा कि रविवार को लगातार 28वें दिन आम जनजीवन प्रभावित रहा। दुकानें बंद रहीं और सड़कों से सार्वजनिक वाहन नदारद रहे। परंतु श्रीनगर के कई इलाकों में निजी वाहनों की आवाजाही दिखी। शहर के सिविल लाइन इलाकों में कुछ रेहड़ी वालों ने अपनी दुकानें लगाई। 

उन्होंने बताया कि घाटी के अधिकतर इलाकों में अवरोधक और पाबंदियां हटा ली गई हैं, लेकिन कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुरक्षाबलों की तैनाती जारी है। बता दें कि पांच अगस्त को केंद्र की ओर से अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने और जम्मू-कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के फैसले के बाद से बंद बीएसएनएल ब्रॉडबैंड और निजी लीज लाइन इंटरनेट सहित मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं अभी बहाल नहीं की गई हैं। 

Tags : चीनी,Chinese,Punjab Kesari,GST Council,जीएसटी काउंसिल,जीएसटीएन,gstn,Karnataka elections,कर्नाटक चुनाव ,Kashmir