+

अधीर रंजन के बयान पर स्मृति का पलटवार, लोकसभा में बोलीं-रेप को राजनीतिक हथियार बनने वाले दे रहे भाषण

अधीर रंजन के बयान पर स्मृति का पलटवार, लोकसभा में बोलीं-रेप को राजनीतिक हथियार बनने वाले दे रहे भाषण
संसद में आज देशभर में महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों का मुद्दा उठाया गया। कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने उत्तर प्रदेश के उन्नाव में रेप पीडि़ता को जिंदा जलाए जाने की घटना पर रोष व्‍यक्‍त किया। लोकसभा में बोलते हुए उन्होंने कहा, उन्नाव में रेप पीड़िता 95 फीसदी चुकी है, देश में क्या चल रहा है? एक तरफ भगवान राम मंदिर बनाया जा रहा है और दूसरी तरफ सीता मैया जलाई जा रही है। अपराधी ऐसा करने की हिम्‍मत कैसे जुटाते हैं? 
कांग्रेस नेता के इस बयान के बाद उन्नाव की घटना के विरोध में कांग्रेस सांसदों ने लोकसभा से वॉकआउट किया कर दिया। वहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अधीर रंजन पर हमला करते हुए कहा महिला सम्मान के विषयों को सांप्रदायिक विषय से जोड़ना गलत है। ऐसा दुस्साहस मैंने पहले नहीं देखा। 
स्मृति ईरानी ने कहा कि बंगाल में पंचायत चुनाव में रेप को सियासी हथियार के रूप में इस्तेमाल किया गया। यह तथ्य कि आप (विपक्षी सांसद) आज यहां चिल्लाते हैं, इसका मतलब है कि आप नहीं चाहते कि कोई महिला खड़ी हो और मुद्दों पर बात करे। आज बंगाल के एक सांसद यहां पर मंदिर का नाम ले रहे थे। 
जिन लोगों ने रेप को राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया वो आज भाषण दे रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक सांसद (अधीर रंजन) ने तेलंगााना और उन्नाव की घटना का नाम लिया लेकिन मालदा भूल गए। कांग्रेस सांसदों के हंगामे के बीच स्मृति ईरानी ने कहा कि उन्नाव और तेलंगाना में जो हुआ वो शर्मनाक है और दोषियों को फांसी मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इसपर राजनीति नहीं होनी चाहिए। 
वहीं शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने कहा, एक कानून का गठन किया जाना चाहिए जिसके माध्यम से ऐसे मामलों (महिलाओं के खिलाफ अपराध) की सुनवाई सीधे सुप्रीम कोर्ट में हो, वर्तमान में निचली अदालतों से प्रक्रिया शुरू होती है, प्रक्रिया चलती है और मैं अध्यक्ष से इस पर चर्चा करने के लिए एक समिति गठित करने की अपील करता हूं।
facebook twitter