+

कांपते पैर, माथे पर पसीना, हमले का डर.....अभिनंदन की रिहाई पर पाकिस्तान का सच

अयाज सादिक ने असेंबली में अभिनंदन की रिहाई से सम्बंधित मुद्दे पर बोलते हुए कहा, मुझे याद है कि एमएम कुरैशी उस बैठक में थे जिसमें पीएम इमरान खान ने भाग लेने से इनकार कर दिया था। कुरैशी के पैर कांप रहे थे, उन्हें पसीना आ रहा था।
कांपते पैर, माथे पर पसीना, हमले का डर.....अभिनंदन की रिहाई पर पाकिस्तान का सच
साल 2019 में भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की रिहाई मामले में पाकिस्तान का बड़ा सच सामने आया है। पाकिस्तान असेंबली के पूर्व स्पीकर सरदार अयाज सादिक ने असेंबली में खुलासा किया कि विदेश मंत्री एसएम कुरैशी ने पीपीपी, पीएमएल-एन और सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा सहित संसदीय नेताओं के साथ एक बैठक में डर के कारण अभिनंदन को रिहा करने का फैसला किया।
अयाज सादिक ने असेंबली में अभिनंदन की रिहाई से सम्बंधित मुद्दे पर बोलते हुए कहा, मुझे याद है कि एमएम कुरैशी उस बैठक में थे जिसमें पीएम इमरान खान ने भाग लेने से इनकार कर दिया था। कुरैशी के पैर कांप रहे थे, उन्हें पसीना आ रहा था। इस बैठक में विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा था कि अल्लाह के वास्ते इसको (अभिनंदन) वापस जाने दो, क्योंकि रात 9 बजे हिंदुस्तान, पाकिस्तान पर हमला कर देगा। 
बता दें कि साल 2019 में 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर हमला किया गया था, जिसमें 40 अर्धसैनिक बलों के जवान शहीद हुए थे। इसके जवाब में भारत ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी कैंप पर स्ट्राइक किया जिसके बाद पाकिस्तान ने अपने फाइटर जेट भारत में हमले के लिए भेजे थे। इसके जवाब में विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग-21 लेकर उड़ान भरी थी। 
विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के एफ-16 विमान को मार गिराया था। इस दौरान दुश्मनों पीछा करते हुए विंग कमांडर अभिनंदन  का मिग-21 विमान क्रैश हो गया और वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में जा गिरे थे। जिसके बाद पाकिस्तानी सुरक्षाबलों ने उन्हें अपनी हिरासत में ले लिया था। हालांकि, इसके बाद पाकिस्तान पर काफी दबाव बनाया गया, जिसके बाद अभिनंदन को अटारी-वाघा बॉर्डर से भारत वापस लौटाया गया था।
facebook twitter instagram