+

छात्राओं के लिए अब चलेंगी गुलाबी बसें, कंडक्टर भी महिला

हरियाणा की मनोहर लाल सरकार ने छात्राओं की सुविधा के लिए बडा फैसला किया है। अब हरियाणा में छात्राओं के लिए स्पेशल बसों चलाई जाएंगी और ये गुलाबी रंग की होंगी।
छात्राओं के लिए अब चलेंगी गुलाबी बसें, कंडक्टर भी महिला
चंडीगढ़ : हरियाणा की मनोहर लाल सरकार ने छात्राओं की सुविधा के लिए बडा फैसला किया है। अब हरियाणा में छात्राओं के लिए स्पेशल बसों चलाई जाएंगी और ये गुलाबी रंग की होंगी। गांव से स्कूल-कॉलेज जाने वाली छात्राओं के लिए विशेष रूप से पिंक कलर की 150 मिनी बसें खरीदी जा रही हैं। ये बसें पहली अप्रैल से सड़कों पर होंगी। कॉमन मिनिमम प्रोग्राम कमेटी की दूसरी बैठक में भी छात्राओं के लिए विशेष रंग की स्पेशल बसों पर सहमति बन गई है। 

इसके साथ ही प्रतियोगिता परीक्षाओं में शामिल होने के लिए जा रहे विद्यार्थियों को बसों में मुफ्त यात्री की सुविधा मिलेगी। जजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में बेटियों के लिए विशेष बस चलाने का वादा किया था। इसी तरह का वादा भाजपा भी अपने संकल्प पत्र में कर चुकी है। 

दोनों पार्टियों का एक ही एजेंडा होने के चलते इस पर तुरंत मुहर लग गई। प्रदेश सरकार छात्राओं के बस पास की लिमिट को पहली ही बढ़ा चुकी है। पहले जहां केवल 60 किलोमीटर के लिए बस पास बनता था, वहीं अब छात्राओं के लिए इसे 150 किलोमीटर तक कर दिया गया है। 

परिवहन विभाग की मांग पर उच्चतर शिक्षा विभाग ने सभी कॉलेज प्राचार्यों तथा तकनीकी शिक्षा विभाग ने सभी पोलिटेक्निक और इंजीनियरिंग कॉलेजों को चिट्ठी लिखी है। कॉलेज प्राचार्यों को छात्राओं की संख्या के हिसाब से रूट बनाकर देने को कहा है ताकि बेटियों की संख्या वाले रूटों पर इन विशेष बसों को चलाया जा सके।

अप्रैल से छात्राओं को मिलेंगी 150 मिनी बसें, पुरानी बसों का भी बदलेगा रंग
छात्राओं के लिए चलाई जा रही विशेष बसों में जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा ताकि इनकी लोकेशन का पता लगाया जा सके। बसों में कंडक्टर भी किसी महिला को ही लगाने की कोशिश है। इन बसों में सुरक्षा गार्ड की तैनाती के साथ ही सीसीटीवी कैमरे भी लगे होंगे। भाजपा-जजपा की गठबंधन सरकार का न्यूनतम साझा कार्यक्रम तय करने के लिए हुई बैठक में युवाओं से जुड़े दो और अहम मुद्दों पर भी सहमति बनी है।

प्रतियोगी परीक्षाओं और इंटरव्यू के दौरान मिलेगी बसों में मुफ्त सफर की सुविधा
विभिन्न प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं खासकर नौकरियों से जुड़े मामलों में परीक्षा केंद्र किसी भी सूरत में 50 किलोमीटर से अधिक दूर नहीं होंगे। हालांकि पहली कोशिश संबंधित जिलों में ही परीक्षा केंद्र बनाने की होगी। इसके अलावा अध्यापक पात्रता जैसी परीक्षाओं के लिए अभ्यॢथयों से रोडवेज बसों में किराया नहीं लिया जाएगा। हरियाणा लोकसेवा आयोग और हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की भर्तियों के लिए इंटरव्यू देने चंडीगढ़-पंचकूला आने वाले युवाओं को भी बसों में मुफ्त यात्रा का लाभ मिलेगा।
facebook twitter