हिमाचल में बोले मोदी-भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में हर राज्य की भूमिका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को हिमाचल प्रदेश के पहले दो दिवसीय वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन का उद्घाटन और निवेशकों को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2025 तक भारत को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य हासिल करने में हर राज्य और जिले की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। 
पीएम मोदी ने यहां दो दिन चलने वाले वैश्विक निवेशक सम्मेलन संबोधित करते कहा, इसका उद्देश्य हिमाचल प्रदेश में निवेश आकर्षित करना है। 'देश के हर राज्य और हर जिले में काफी क्षमता है और सभी मिलकर देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में अहम भूमिका निभाएंगे।'  
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, पहले की तुलना में अब राज्य निवेश आकर्षित करने के लिए एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। मोदी ने अपने 30 मिनट के भाषण में कहा , 'हिमाचल में पर्यटन, फार्मा और अन्य क्षेत्रों में निवेश की काफी संभावनाएं हैं।' उन्होंने कहा कि कारोबार करने में सुगमता के मामले में भारत शीर्ष दस प्रदर्शन करने वाले देशों में है। वर्ष 2014 से 2019 के बीच भारत की कारोबारी सुगमता रैंकिंग में 79 अंक का सुधार हुआ है। 
इस शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए बुधवार को ही कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय व्यापारिक प्रतिनिधि धर्मशाला पहुंच चुके हैं। केंद्रीय मंत्री अमित शाह, नितिन गडकरी, पीयूष गोयल, प्रह्लाद पटेल और अनुराग ठाकुर के साथ अन्य औद्योगिकी तथा विदेशी निवेशक इस सम्मेलन में भाग लेंगे। 
इंवेस्टर्स समिट 'राइजिंग हिमाचल' का प्रमुख उद्देश्य कृषि-व्यवसाय, खाद्य प्रसंस्करण और फसलों की कटाई के बाद की तकनीक, विनिर्माण और फार्मास्यूटिकल्स, पर्यटन, अतिथिसेवा और नागरिक उड्डयन, हाईड्रो और अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करने के लिए निवेशकों को आकर्षित करना है। 
Tags : Badrinath,चारधाम यात्रा,बद्रीनाथ,हिमपात,Snow,भीषण ठंड,Kedarnath Dham,केदारनाथ धाम,Chardham Yatra,Gruzing cold ,Himachal,Global Investors' Conference,state,Modi,India