+

2 कत्लों समेत 40 से अधिक वारदाताओं को अंजाम देने वाले 19 से 25 साल के 8 युवाओं को पुलिस ने खतरनाक हथियारों समेत किया काबू

संगरूर से लेकर दिल्ली तक कत्ल और लूट-मार की कई घटनाओं को सफलतापूर्वक अंजाम तक ले जा चुके 8 सदस्य गिरोह के नौजवानों को पंजाब पुलिस ने बंदूकों और कई खतरनाक हथियारों समेत काबू करने का दावा किया है।
2 कत्लों समेत 40 से अधिक वारदाताओं को अंजाम देने वाले 19 से 25 साल के 8 युवाओं को पुलिस ने खतरनाक हथियारों समेत किया काबू
लुधियाना-संगरूर : संगरूर से लेकर दिल्ली तक कत्ल और लूट-मार की कई घटनाओं को सफलतापूर्वक अंजाम तक ले जा चुके 8 सदस्य गिरोह के नौजवानों को पंजाब पुलिस ने बंदूकों और कई खतरनाक हथियारों समेत काबू करने का दावा किया है। संगरूर के जिला प्र्रमुख डॉक्टर संदीप गर्ग ने बताया कि सीआइए के स्टाफ द्वारा गुप्त सूचना के आधार पर गांव बेनड़ा से मानावाल को जाती ड्रेन के  नजदीक सरगर्म गिरोह के सदस्यों को बीती रात 8 युवकों को काबू किया है। 

इन बदमाशों की उम्र 19 से 25 साल तक की है। इन युवाओं की करतूत का खुलासा होने पर पुलिसकर्मियों के भी होश उड़ गए। ये लोग अब तक दो बुजुर्गों की हत्या करने सहित करीब 40 आपराधिक वारदात कर चुके थे। इनके दो साथी पहले से ही जेल में बंद हैं।

सीआइए स्टाफ ने गिरोह के इन आठ सदस्शें को गिरफतार कर इनके जुर्म का खुलासा किया। पूछताछ के दौरान इन युवकों ने संगरूर जिले में दो कत्ल सहित 40 वारदातें करने का अपराध कबूल किया है। गिरोह के दो अन्य सदस्य पहले से संगरूर की जिला जेल में बंद हैं। 19 से 25 आयु वर्ग के ये सभी आरोपित मैट्रिक पास हैं। आरोपितों से शेरपुर के एसबीआइ के सुरक्षा कर्मी की चुराई 12 बोर की बंदूक, दो कारतूस, चाकू, दो किरच, लोहे के राड व लाठी बरामद हुई।

पुलिस के अनुसार, सीआइए की बहादुर सिंह वाला टीम ने बीती रात बेनड़ा-मानावाला रोड से मोटरसाइकिलों पर सवार सुखप्रीत सिंह उर्फ सुक्खी, बलजिंदर सिंह उर्फ काला (दोनों सगे भाई), मनिंदर सिंह उर्फ वट्टा, जसप्रीत सिंह उर्फ जस्सी व प्रभजोत सिंह (सभी निवासी चांगली, संगरूर), संगरूर के थाना अमरगढ़ क्षेत्र के तोलावाल निवासी सुखचैन सिंह उर्फ चन्नी व गुरप्रीत सिंह उर्फ काली और संगरूर के कुलार खुर्द निवासी हरविंदरपाल उर्फ निक्का को काबू किया।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि ये आरोपित वारदात करने जा रहे थे। पुलिस ने सभी को अदालत में पेश करके दो दिन के रिमांड पर लिया है। इसके अलावा दो आरोपित मोहम्मद अरशद उर्फ फौजी व शिंदर सिंह उर्फ लाली छह माह पहले गिरफ्तार किए गए थे। दोनों अभी जेल में हैं।

गिरोह के सदस्यों ने कबूल किया कि धूरी के नजदीकी चांगली में एक बुजुर्ग महिला की हत्या की थी। गांव चांगली की परमजीत कौर की कोई औलाद नहीं थी। वह घर पर अकेली रहती थी। गिरोह के सदस्य पिछले साल 18 दिसंबर की रात को घर में दाखिल हुए। आरोपितों ने परमजीत कौर की चुनरी से गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद घर से 45 हजार रुपये की नकदी, महिला के कानों से सोने की बालियां व चांदी का कंगन उतार ले गए।
इसके अलावा आरोपितों ने मालेरकोटला के गोबिंद नगर में किराये की दुकान में करियाना का सामान बेचने और वहीं दूसरी दुकान में सोने वाले मोहम्मद बशीर उर्फ सूफी की भी हत्या की थी। आरोपित चोरी करने दुकान में घुसे तो मोहम्मद बशीर नींद से जाग गए। आरोपितों ने उनके हाथ-पैर चारपाई से बांध दिए और सिर पर लोहे की राड मारकर हत्या कर दी। लुटेरे दुकान से 15हजार की नकदी व मोबाइल फोन लूट ले गए।

गिरोह के सदस्यों ने पिछले साल 25 दिसंबर की रात को गांव घनौली कलां के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में लूट करने के लिए सेंधमारी की। कैश अलमारी के आसपास बनी दीवार को भी तोड़ दिया, लेकिन कैश अलमारी से नकदी नहीं निकाल पाए। असफल होने पर लुटेरे बैंक के सुरक्षा कर्मी रणजीत सिंह की 12बोर बंदूक व दो कारतूस लेकर फरार हो गए। सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने पर लुटेरों की पहचान हुई।


- सुनीलराय कामरेड
facebook twitter