+

महाराष्ट्र: रेमडेसिविर की जमाखोरी पर पुलिस का छापा, जब्त की 2,200 शीशियां

महाराष्ट्र पुलिस और राज्य खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) के अधिकारियों ने यहां दो स्थानों पर छापेमारी करके निर्यातकों द्वारा जमा करके रखी गई रेमडेसिविर की 2,200 शीशियां बरामद की हैं।
महाराष्ट्र: रेमडेसिविर की जमाखोरी पर पुलिस का छापा, जब्त की 2,200 शीशियां
महाराष्ट्र पुलिस और राज्य खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) के अधिकारियों ने यहां दो स्थानों पर छापेमारी करके निर्यातकों द्वारा जमा करके रखी गई रेमडेसिविर की 2,200 शीशियां बरामद की हैं। कोविड-19 के गंभीर मरीजों के लिए आवश्यक मानी जाने वाली रेमडेसिविर के निर्यात पर केंद्र ने पिछले हफ्ते रोक लगा दी थी। महामारी के मामले तेजी से बढ़ जाने पर इस दवा की मांग बढ़ गयी है। 
अधिकारी ने बताया कि पुलिस तथा एफडीए के अधिकारियों ने एक सूचना के आधार पर सोमवार को उपनगर अंधेरी तथा दक्षिण मुंबई के न्यू मरीन लाइन्स में दो स्थानों पर छापा मारा था। मुंबई पुलिस के प्रवक्ता एस चैतन्य ने एक वक्तव्य में बताया कि अंधेरी (पूर्व) के मरोल इलाके में एक निर्यातक के यहां से रेमडेसिविर की 2,000 शीशियां बरामद की गई हैं जो एक ही दवा कंपनी की हैं। 
उन्होंने बताया कि इसके अलावा, 200 शीशियां न्यू मरीन लाइन्स इलाके में निर्यातक के एक अन्य परिसर से बरामद की गईं। अधिकारी ने बताया कि ये शीशियां विदेशी बाजार के लिए उत्पादित की गयी थीं लेकिन सरकार द्वारा इस दवा के निर्यात पर रोक लगाये जाने के बाद उन्हें जमा करके रखा गया था। उन्होंने बताया कि एफडीए इन जब्त शीशियों को अस्पतालों को उपलब्ध करवाएगा। 
पुलिस उपायुक्त (अष्टम जोन) मंजूनाथ सिंगे ने कहा, ‘‘ हमारे पास विशिष्ट खुफिया सूचना थी। तकनीकी मदद से पुलिस एवं एफडीए ने दवा के इस भंडार को बरामद किया।’’ उन्होंने उम्मीद जतायी कि इन छापों के बाद निर्यात अब रेमडेसिविर की खेप विदेश नहीं भेज पायेंगे और वे स्थानीय बाजार हेतु राज्य को अपनी दवाएं देंगे। उन्होंने कहा, ‘‘ ये रेमडेसिविर दवा कोविड-19 महामारी के दौरान अनेक लोगों की जिंदगी जिंदगियां बचा सकती हैं।’’ 



facebook twitter instagram