+

दिल्ली में रिंकू शर्मा की हत्या से गरमाई राजनीति, घटना में पुलिस का सांप्रदायिक पहलू से इनकार

दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि बाहरी दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में एक 25 वर्षीय शख्स की हत्या व्यावसायिक रंजिश के कारण हुई थी और इसके लिए किसी भी सांप्रदायिक पहलू को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए।
दिल्ली में रिंकू शर्मा की हत्या से गरमाई राजनीति, घटना में पुलिस का सांप्रदायिक पहलू से इनकार
दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि बाहरी दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में एक 25 वर्षीय शख्स की हत्या व्यावसायिक रंजिश के कारण हुई थी और इसके लिए किसी भी सांप्रदायिक पहलू को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए। बुधवार देर रात जन्मदिन की एक पार्टी में बहस के बाद रिंकू शर्मा की कथित रूप से उसके और उसके एक जानकार व्यक्ति और इस शख्स के तीन दोस्तों द्वारा चाकू मारकर हत्या कर दी गई थी।
पुलिस द्वारा स्पष्टीकरण तब आया है जब कुछ संगठनों ने हत्या को सांप्रदायिक रंग देना शुरू कर दिया और ट्विटर पर 'हैशटैग जस्टिस फॉर रिंकू शर्मा' ट्रेंड करने लगा। मामले में शामिल होने के चार आरोपियों -- दानिश, इस्लाम, जाहिद और मेहताब को गिरफ्तार किया गया है। बाहरी दिल्ली के डीसीपी ए. कोन ने कहा, "अब तक, जांच के दौरान, यह सामने आया है कि झगड़ा जन्मदिन की पार्टी के दौरान एक रेस्तरां को बंद करने को लेकर शुरू हुआ था। सभी व्यक्ति एक-दूसरे को जानते थे और एक ही इलाके में रहते थे। इस घटना के पीछे कोई और मकसद होने की बात गलत है।"
वहीं इस मामले ने तूल पकड़ लिया है। सूत्रों के मुताबिक रिंकू शर्मा भाजपा और वीएचपी से जुड़ा हुआ था और इन दिनों राम मंदिर के लिए चंदा भी जुटा रहा था। हालांकि पुलिस ने ऐसे दावों को खारिज किया है। इस घटना के बाद भाजपा नेता संबित पात्रा ने इस घटना पर नाराजगी जताई। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस मामले में ट्वीट करते हुए लिखा है, 'रिंकू शर्मा, जय श्री राम।' उनके इस ट्वीट के बाद सियासी उबाल बढ़ गया है। वीएचपी नेता सुरेंद्र जैन ने हत्यारों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की है।
बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर कहा, "अगर रिंकू का नाम रेहान होता तो उसकी हत्या देश की सबसे बड़ी खबर होती, हर नेता उसके दरवाजे पर होता, रिंकू शर्मा जी की हत्या दिल्ली में ऐसा पहला अपराध नहीं, अंकित सक्सेना, ध्रुव त्यागी, डॉ नारंग, राहुल, अंकित शर्मा सब को ऐसे ही तो मारा गया, आखिर क्यों? 

दिल्ली में गुरुवार को कोविड-19 के 142 नए मामले आए, संक्रमण दर 0.22 प्रतिशत

facebook twitter instagram